Thursday, February 22, 2024
Homeमहाराष्ट्रसांसदी बहाल होने के बाद कब से मिलेगी राहुल गांधी को सैलरी...

सांसदी बहाल होने के बाद कब से मिलेगी राहुल गांधी को सैलरी और कौन सी सुविधाएं, कौन सा घर

हाइलाइट्स

सबसे बड़ा सवाल ये है कि राहुल गांधी की सदस्यता को कब से बहाल माना जाएगा, ये कोर्ट के आदेश से तय होगा
राहुल अब सीनियर सांसद हैं लिहाजा उसी के अनुसार उन्हें आवास दिया जाएगा

23 मार्च 2023 को सूरत कोर्ट द्वारा मानहानि के आपराधिक मामले में राहुल गांधी को दोषी पाया गया और  दो साल की सजा सुनाई गई. इसके बाद गुजरात हाईकोर्ट तक राहुल को कोई राहत नहीं मिली. आखिरकार आखिरी विकल्प के तौर पर जब वह सुप्रीम कोर्ट में पहुंचे तो वहां उन्हें राहत मिली और फैसला किए जाने तक सजा पर रोक भी लग गई. 24 मार्च को उनकी संसद सदस्यता खत्म हो गई जो 134 दिनों बाद 07 अगस्त को फिर बहाल हो पाई. अब राहुल गांधी को कब से सांसद के तौर पर सैलरी और सुविधाएं मिलेंगी और ये क्या होंगी.

एक बड़ा सवाल है कि क्या राहुल की सदस्यता को उसी दिन से बहाल माना जाएगा, जिस दिन से उनकी सदस्यता गई है. तो इसका जवाब होगा नहीं. बल्कि उनकी सदस्यता को तब से बहाल माना जाएगा, जब से सुप्रीम कोर्ट ने उनकी सजा को बहाल किया है. सुप्रीम कोर्ट ने ये काम 04 अगस्त को किया था, लेकिन उसके बाद शनिवार और रविवार को लोकसभा सचिवालय बंद था, लिहाजा ये काम सोमवार को 07 अगस्त को हुआ.

अब राहुल गांधी की एक सांसद के तौर पर सारी सुविधाएं 07 अगस्त से ही बहाल मानी जाएंगी. अब हम जानते हैं वो सुविधाएं क्या हैं, जो उन्हें वापस मिलेंगी

सांसद के तौर पर वेतन और भत्ता
– सीनियर सांसद के तौर पर दिल्ली में सरकार आवास
– राजनयिक पासपोर्ट
– टेलीफोन और मोबाइल इस्तेमाल की सुविधा
– रेल, विमान और अपनी कार द्वारा यात्रा की सुविधा का भत्ता
– वाहन के लिए अग्रिम एडवांस लेने की सुविधा
– पेंशन की सुविधा
– चिकित्सा सुविधा
– सांसद के बतौर आवास मिलने पर फर्नीचर की सुविधा

कितना वेतन मिलेगा
राहुल गांधी को संसद सदस्य के तौर पर संसद सदस्य वेतन, भत्ता और पेंशन अधिनियम,1954 के तहत वेतन मिलेगा. अब पूरे कार्यकाल के दौरान उनका वेतन प्रतिमाह 50,000 रुपए होगा
– संसद सत्र के दौरान रोज 2000 रुपए का भत्ता मिलेगा, बशर्ते वह लोकसभा के हाजिरी रजिस्टर पर साइन करें
– निर्वाचन क्षेत्र का भत्ता मिलेगा – 45,000 रुपया
– कार्यालय भत्ता मिलेगा – 45,000 रुपया. इसमें 15000 रुपए स्टेशनरी, डाक और अन्य खर्चों के लिए होगा तो 30,000 रुपए कार्यालय सहायक के लिए, जिसके लिए कंप्युटर जानना जरूरी होगा.
यानि कुल मिलाकर उन्हें 1.40 लाख रुपए मिलेंगे. सत्र के दौरान प्रतिदिन का 2000 रुपए का भत्ता अलग

क्या उन्हें इनकम टैक्स देना होगा
हां, हर संसद सदस्य को इनकम टैक्स देना होता है. हालांकि ये इनकम टैक्स उनके वेतन और अन्य स्रोतों से प्राप्त आय पर लगेगी, ज्यादातर भत्तों पर इनकम टैक्स से राहत मिल जाती है

सांसदों और मंत्रियों का वेतन कहां से निकलता है
सांसदों और मंत्रियों का वेतन लोकसभा सचिवालय और राज्यसभा सचिवालय से निकलता है और वहीं हर महीने उनके वेतन के साथ भत्तों का हिसाब रखा जाता है.

सांसद कैसे यात्रा कर सकता है
– सांसद को रेल में यात्रा करने पर एसी या एक्जीक्यूटिव क्लास का टिकट मुफ्त मिलता है. साथ में एक प्रथम श्रेणी और द्वितीय श्रेणी का टिकट
– विमान द्वारा यात्रा करने पर उसे पूरे टिकट का किराया और उसकी एक तिहाई रकम मिलती है. एक सांसद और उसके परिवार या सहयोगी इस तरह 34 एकल यात्राएं सालभर में कर सकते हैं
– अगर वह अपने वाहन से यात्रा कर रहा हो तो उसे प्रति किलोमीटर 16 रुपए का भत्ता मिलता है

क्या राहुल गांधी को तुरंत आवास मिल जाएगा
– नियमानुसार उन्हें तुरंत एक अस्थाई आवास दिया जाना चाहिए, जो गेस्टहाउस, हास्टल या फ्लैट कुछ भी हो सकता है. इसके बाद उनकी वरिष्ठता के लिहाज से दिल्ली में सरकारी बंगला दिया जाएगा. जब राहुल गांधी ने अपना पुराना सरकारी आवास छोड़ा था तो ये काफी बड़ा आवास था. वह इसी के हकदार हैं लेकिन जरूरी नहीं कि ये उन्हें मिल ही जाए. ये इस पर निर्भर करेगा कि कौन सा स्थायी आवास खाली है.

क्या पर्दे और फर्नीचर का भी भत्ता मिलता है
– हर सांसद को हर तीन महीने पर पर्दा और सोफा कवर की धुलाई का पैसा मिलता है
– इसके अलावा टिकाऊ फर्नीचर के तौर पर 60,000 रुपए दिये जाते हैं जबकि गैर टिकाऊ फर्नीचर के लिए 15,000 रुपए

क्या राहुल गांधी को टेलीफोन सुविधा भी मिलेगी
– हर सांसद को उसके कार्यकाल के दौरान तीन लैंडलाइन टेलीफोन और एक मोबाइल फोन की सुविधा मिलती है, जिससे वह सालभऱ में 1.5 लाख कॉल मुफ्त में कर सकता है.

बिजली और पानी की क्या सुविधा मिलती है
– हर सांसद को दिल्ली आवास में मुफ्त बिजली और पानी की सुविधा मिलती है. वह सालभर में 4000 किलोलीटर पानी और 50,000 यूनिट बिजली का इस्तेमाल कर सकता है. इसका खर्च सरकार उठाती है.

चिकित्सा सुविधा क्या होती है
– हर सांसद को चिकित्सा की पूरी सुविधा मिलती है, जो उसके परिवार पर भी लागू होती है. उसमें वो किसी भी तरह का इलाज करा सकता है और अगर वो इलाज भारत में मुनासिब नहीं हो तो विदेश जाकर भी चिकित्सा करा सकता है.

राजनयिक पासपोर्ट कब मिलेगा
– जब राहुल गांधी की सांसदी छीनी थी, तभी उनका राजनयिक पासपोर्ट भी निरस्त कर दिया गया था. अब ये फिर बनेगा. इसके लिए समुचित दस्तावेज लोकसभा सचिवालय से विदेश मंत्रालय भेजे जाते हैं. इसके एक हफ्ते के भीतर ये पासपोर्ट बन जाना चाहिए.

साथ में सांसद को लोकसभा के क्लब, संसद लाइब्रेरी और अन्य सुविधाएं भी हासिल होती हैं.

Tags: Member of parliament, MP, Rahul gandhi, Rahul gandhi latest news

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!