Sunday, July 14, 2024
Homeमहाराष्ट्रसचिन बिश्नोई के बाद आधा दर्जन आतंकी गैंगस्टर्स पर कसा शिकंजा, जल्‍द...

सचिन बिश्नोई के बाद आधा दर्जन आतंकी गैंगस्टर्स पर कसा शिकंजा, जल्‍द लाए जाएंगे भारत

नई दिल्‍ली. गैंगस्टर सचिन बिश्नोई प्रत्यर्पण के बाद केन्द्रीय एजेंसियों के रडार पर विदेश में बैठे आधा दर्जन गैंगस्टर (Gangsters) आतंकी और हैं जिनको भारत लाया जाना है. इन गैंगस्टरों में गोल्डी बरार अर्श डल्ला गुरपतवंत सिंह पन्नू प्रमुख हैं जो विदेशों में बैठकर पंजाब और हरियाणा में वसूली और गैरकानूनी गतिविधियों का कारोबार चलाते हैं. भारत सरकार और केंद्रीय एजेंसियां लगातार उन देशों से संपर्क में हैं और गैंगस्‍टर्स को भारत वापस लाने की कार्रवाई शुरू हो गई है.

जानकारी के अनुसार आतंकी अर्श डल्ला जो कि कनाडा में रह रहा है और भारत सरकार ने इसे आतंकी भी घोषित कर रखा है. अमरीक सिंह फिलीपींस, गोल्डी बरार अमेरिका, गुरपतवंत सिंह पन्नू कनाडा में रहते हुए भारत में आतंकी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. इन सभी के लिए भारत सरकार की एजेंसियों ने प्रत्‍यर्पण की कार्रवाई शुरू कर दी है. ये आतंकी विदेशी धरती पर रहते हुए हत्‍या, रंगदारी, वसूली और अन्‍य आपराधिक गतिविधियों के साथ भारत के खिलाफ काम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें-  कर्नाटक: 8 माह की बच्‍ची को मोबाइल चार्जर से लगा था करंट, दर्दनाक हादसे से छाया मातम

तमाम मोस्‍ट वांटेड बहुत जल्‍द ही भारत वापस लाए जाएंगे
इन सब की जानकारी, आपराधिक मामले और अन्‍य सूचनाओं को जुटाने के बाद एजेंसियों ने अपना खास अभियान शुरू कर दिया है. ऐसी उम्‍मीद है कि तमाम मोस्‍ट वांटेड बहुत जल्‍द ही भारत वापस लाए जाएंगे. जिस तरह से गैंगस्‍टर सचिन को अजरबैजान से प्रत्‍यर्पण किया गया और इस पूरे ऑपरेशन को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की निगरानी में अंजाम दिया गया है. इसमें विदेश मंत्रालय, कानून मंत्रालय, गृह मंत्रालय के आला अधिकारी शामिल थे. किसी भी चूक से बचने के लिए पहले से ही इंतजाम किए गए थे.

ऑपरेशन में किसी चूक की गुजाइंश नहीं, मल्‍टी एजेंसी ऑपरेशन शुरू
ऑपरेशन में ट्रांसलेटर को हायर किया गया था और उसने अजरबैजान के कानून का अंग्रेजी में और भारतीय कानून का अंग्रेजी से अजरबैजान की भाषा (अज़रबैजानी या अजेरी) में अनुवाद किया ताकि भारतीय एजेंसिया वहां की अदालत में पुख्ता तरीके से अपना केस साबित कर सकें. ठीक इसी तरह कनाडा, फिलीपींस और अमेरिका में ऐसे गोपनीय अभियान की शुरुआत हो चुकी है. इस मल्टी एजेंसी ऑपरेशन में हर गैंगस्टर और इसके देश को चिन्हित कर लिया गया है. अब वहां की अदालतों में भारत की ओर से जरूरी कानूनी आवेदन किए जा चुके हैं. इस कवायद से भारतीय एजेंसियों को उम्मीद है कि आनेवाले कुछ दिनों में और भी देश के दुश्मन भारत में वापस लाए जाएंगे.

Tags: Gangsters and criminals, Gangsters in Punjab, Terrorist arrest

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!