Thursday, February 22, 2024
Homeमहाराष्ट्रसिख विरोधी दंगे: जगदीश टाइटलर ने दायर की अग्रिम जमानत याचिका, कल...

सिख विरोधी दंगे: जगदीश टाइटलर ने दायर की अग्रिम जमानत याचिका, कल हो सकती है सुनवाई

नई दिल्ली. कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर (Jagdish Tytler) ने 1984 सिख विरोधी दंगों के दौरान पुल बंगश इलाके में हुई हत्याओं से संबंधित मामले में अग्रिम जमानत के लिए मंगलवार को दिल्ली की एक अदालत में याचिका दायर की. याचिका विशेष न्यायाधीश विकास ढुल के समक्ष दायर की गई है, जिन्होंने केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) को नोटिस जारी कर दो अगस्त यानी बुधवार तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया. अदालत बुधवार को इस याचिका पर सुनवाई कर सकती है.

इससे पहले, 26 जुलाई को एक अदालत ने मामले से संबंधित आरोप पत्र पर संज्ञान लेते हुए टाइटलर को पांच अगस्त को पेश होने के लिए कहा था. सीबीआई ने इस मामले में 20 मई को टाइटलर के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था. तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सिख अंगरक्षकों द्वारा हत्या किए जाने के एक दिन बाद एक नवंबर, 1984 को यहां पुल बंगश इलाके में तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी और एक गुरुद्वारे को आग लगा दी गई थी.

कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर को 5 अगस्त को किया तलब
दिल्ली स्थित राउज़ एवेन्यू कोर्ट ने 1984 के सिख विरोधी दंगों के दौरान हुए पुल बंगश हत्याकांड मामले में कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर को 5 अगस्त को तलब किया है. अदालत के समक्ष दायर आरोपपत्र में सीबीआई ने कहा कि टाइटलर ने 1 नवंबर, 1984 को पुल बंगश गुरुद्वारा आजाद मार्केट में एकत्रित भीड़ को भड़काया, जिसके परिणामस्वरूप गुरुद्वारा जला दिया गया और तीन सिखों- ठाकुर सिंह, बादल सिंह तथा गुरु चरण सिंह की हत्या कर दी गई. सीबीआई ने 20 मई को इस मामले में टाइटलर के खिलाफ सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर की थी, जिस पर अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट विधि गुप्ता आनंद ने संज्ञान लेते हुए टाइलर को तलब किया.

ये भी पढ़ें –   1984 सिख विरोधी दंगा: पुल बंगश हत्याकांड में बढ़ी जगदीश टाइटलर की मुश्किल, कोर्ट ने 5 अगस्त को तलब किया

CBI ने आरोप पत्र में कहा कि टाइटलर ने भीड़ को उकसाया था
सीबीआई ने अदालत के समक्ष दायर अपने आरोप पत्र में आरोप लगाया कि टाइटलर ने एक नवंबर, 1984 को आजाद मार्केट में पुल बंगश गुरुद्वारे में इकट्ठा हुई भीड़ को “उकसाया” और “भड़काया” था. एजेंसी ने टाइटलर पर भारतीय दंड संहिता की धारा 147 (दंगा),109 (उकसावा) और 302 (हत्या) के तहत आरोप लगाए थे.

Tags: Congress, Delhi Court, Sikh

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!