Sunday, July 14, 2024
Homeमहाराष्ट्रAnalysis: नूंह हिंसा के मास्टरमाइंड कहीं साइबर ठग तो नहीं? जानें क्यों...

Analysis: नूंह हिंसा के मास्टरमाइंड कहीं साइबर ठग तो नहीं? जानें क्यों जताई जा रही ये आशंका

चंडीगढ़. हरियाणा पुलिस ने इस साल अप्रैल महीने में साइबर अपराधियों के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए नूंह में ताबड़तोड़ छापेमारी की थी. पुलिस के मुताबिक, इस दौरान सैंकड़ों साइबर अपराधियों के ठिकानों से करोड़ों रुपये की ठगी के खुलासे के अलावा अहम दस्तावेज भी बरामद किए गए. 31 जुलाई को नूंह में हिंसा की आड़ में साइबर पुलिस स्टेशन पर सबसे बड़ा सुनियोजित हमला किया गया. गौरतलब है कि मेवात भी झारखंड के जामताड़ा की तरह साइबर अपराधियों का गढ़ माना जाता है. नूंह और आसपास का इलाका साइबर ठगी के लिए बदनाम है.

हरियाणा सरकार के मुताबिक, उपद्रवी अप्रैल में हुई छापेमारी के दौरान बड़े पैमाने पर जुटाए गए सबूतों को नष्ट करना चाहते थे. नूंह जिले में साइबर क्राइम को अपना पेशा बनाने वाले अपराधियों पर नकेल कसने के लिए हरियाणा पुलिस बड़े पैमाने पर कार्रवाई कर रही है.

100 करोड़ रुपये की साइबर ठगी का हुआ था खुलासा
अप्रैल माह में पुलिस ने नूंह में साइबर जालसाजों के ठिकानों पर एक साथ रेड डाल कर देशभर में लगभग 100 करोड़ रुपये की साइबर ठगी का खुलासा किया था. यह भारत में अपनी तरह की अब तक की सबसे बड़ी छापेमारी थी और इसमें कुल 5,000 जवान और अधिकारी शामिल थे, जिन्होंने नूंह जिले के 14 गांवों में फैले 320 संदिग्ध साइबर अपराधियों के ठिकानों पर छापा मारा.

पुलिस के मुताबिक, इस छापेमारी के दौरान 65 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया गया. इसके अलावा 25 अन्य साइबर अपराधियों को छापेमारी से पहले और छापेमारी के बाद की अवधि में गिरफ्तार किया गया. इस दौरान 66 मोबाइल डिवाइस और 5 माइक्रो एटीएम मशीनों सहित बड़ी संख्या में आईटी डिवाइस जब्त किए गए. 739 फर्जी सिम, 307 फर्जी बैंक खाते और 199 यूपीआई हैंडल के विवरण सहित कई फर्जी दस्तावेजों का खुलासा हुआ.

हिंसा की आड़ में साइबर ठगी के सबूत मिटाने की कोशिश
पुलिस ने कहा कि पिछले दिनों नूंह में हुई हिंसा की आड़ में इस छापेमारी के दौरान जुटाए गए सबूतों को मिटाने की कोशिश की गई और साइबर पुलिस स्टेशन पर सुनियोजित हमला किया गया. नूंह का ये साइबर पुलिस स्टेशन दो साल पहले ही बनकर तैयार हुआ है. साइबर स्टेशन में बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी और दूसरे आपराधिक दस्तावेज थे और उपद्रवियों का मकसद इनको को बर्बाद करना था.

साइबर अपराधियों के नेटवर्क में सेंध लगने के बाद कई FIR भी दर्ज हुई, जिनका रिकॉर्ड नूंह के साइबर पुलिस स्टेशन में था. लिहाजा साइबर पुलिस स्टेशन पर हमला उन एफआईआर को निपटना तो नहीं था, जांच एजेंसियां इस एंगल पर भी काम कर रही हैं.

Tags: Cyber Fraud, Haryana news, Mewat news, Nuh News

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!