Thursday, February 22, 2024
Homeमहाराष्ट्रMP में भाजपा की समरसता यात्रा : 53 हजार गांव, 187 विधानसभा...

MP में भाजपा की समरसता यात्रा : 53 हजार गांव, 187 विधानसभा क्षेत्रों का सफर और निशाने पर 84 सीट

भोपाल. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 अगस्त को मप्र के सागर जिले के बड़तूमा गांव में संत रविदास मंदिर की आधारशिला रखेंगे. यहीं भाजपा की सामाजिक समरसता यात्रा का समापन होगा. ये समरसता यात्राएं पांच अलग-अलग इलाकों से निकाली जा रही हैं. यात्रा के माध्यम से भाजपा उन 84 विधानसभा सीटों पर अपना प्रभुत्व जमाने की कोशिश में हैं जिन पर अनुसूचित जाति वर्ग के लिए मदताताओं का खासा प्रभाव है.

आगामी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा कमर कसकर मैदान में उतर चुकी है. अनुसूचित जनजाति के साथ ही अनुसूचित जाति के वोटों को साधने के लिए पार्टी ने बड़ा कैंपेन लॉन्च किया है. इस संत रविदास सामाजिक समरसता संदेश यात्रा नाम दिया गया है. ये यात्राएं 25 जुलाई से चार स्थानों श्योपुर, धार, नीमच और बालाघाट से शुरू हुईं. हेलीकॉप्टर खराब होने के कारण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सिंगरौली नहीं पहुंच सके इसलिए सिंगरौली से यह यात्रा एक दिन बाद 26 जुलाई से शुरू हुई.

एससी के 80 लाख से ज्यादा वोटर
मध्य प्रदेश की कुल 230 विधानसभा सीटों में 35 अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित हैं. इसके अलावा कुल 84 विधानसभा क्षेत्र ऐसे हैं जहां 80 लाख से ज्यादा एससी वोटर हैं जो विधायक चुनने में अहम भूमिका अदा करते हैं. वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव में अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित 35 सीटों में से भाजपा ने 17 सीटें जीती थीं. इससे पहले 2013 में भाजपा ने 35 में से 28 सीटें जीतीं थीं. मप्र के ग्वालियर-चंबल और रीवा संभाग में एसी के वोटर बड़ी संख्या में हैं. इन इलाकों में ये राजनीतिक समीकरण बनाने-बिगाड़ने में अपनी भूमिका अदा करते हैं. हालांकि 2018 के चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के सिर्फ दो विधायक जीते थे, लेकिन कई सीटों पर बसपा प्रत्याशियों ने दूसरे नंबर पर रहकर परिणाम प्रभावित किए. इसीलिए अब भाजपा अपने 2013 के जैसे प्रदर्शन को दोहराने के लिए एससी वर्ग के लिए अलग से काम कर रही है.

MP में गुमशुदा बच्चों के डराने वाले आंकड़े, 2022 में प्रतिदिन गायब हुई 24 लड़कियां, इंदौर-भोपाल से गायब होते हैं सबसे ज्यादा बच्चे 

अनुसूचित जाति मोर्चा ने संभाली जिम्मेदारी
संत रविदास समरसता संदेश यात्रा की जिम्मेदारी प्रदेश में भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा ने संभाली है. भाजपा अजा मोर्चा के अध्यक्ष लाल सिंह आर्य ने अपनी टीम के साथ यात्रा का पूरा रोडमैप तैयार किया है. पांच यात्राओं में से एक नीमच, मंदसौर, रतलाम, उज्जैन, आगरमालवा, शाजापुर, सारंगगढ़, देवास, सीहोर, भोपाल, रायसेन होते हुए सागर पहुंचेंगी. दूसरी यात्रा धार से भाजपा महासिचव कैलाश विजवर्गीय के नेतृत्व में शुरू हुई. यह बड़वानी, खरगोन, बुरहानपुर, खंडवा, इंदौर, हरदा, बैतूल, नर्मदापुरम, विदिशा होते हुए सागर पहुंचेगी. श्योपुर से केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने यात्रा की शुरुआत की. यह यात्रा मुरैना, भिंड, दतिया, ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, बीना, खुरई से सागर पहुंचेगी. बालाघाट से शुरू हुई यात्रा सिवनी, छिंदवाड़ा, नरिसंहपुर, जबलपुर, कटनी, दमोह से सागर पहुंचेगी जबकि सिंगरौली से चली यात्रा सीधी, रीवा, सतना, कटना पन्ना, निवाड़ी, टीकमगढ़ जिलों से होती हुई पहुंचेगी.

100 करोड़ की लागत से बनेगा संत रविदास का मंदिर
सागर जिले में नरयावली के पास स्थित गांव बड़तूमा में संत रविदास मंदिर 100 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया जाएगा. इस मंदिर के लिए भाजपा उसी तरह जन-जन को जोड़ रही है जैसे अयोध्या के राम मंदिर के लिए जोड़ा गया था. संत रविदास यात्रा के जरिए विभिन्न नदियों का जल और गांव-गांव की मिट्टी भी एकत्रित की जा रही है. मंदिर के लिए राज्य सरकार ने 11 एकड़ जमीन भी आवंटित की है.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!