Thursday, May 23, 2024
Homeमहाराष्ट्रChandrayaan-3: चंद्रयान-3 को लेकर नया अपडेट, अब सालों तक चांद पर रहेगा...

Chandrayaan-3: चंद्रयान-3 को लेकर नया अपडेट, अब सालों तक चांद पर रहेगा प्रोपल्शन मॉड्यूल, मिलती रहेगी कई अहम जानकारी

Chandrayaan-3. भारत का मिशन मून चंद्रयान-3 अब अपने अंतिम दौर पर पहुंच चुका है. इसरो ने बताया है कि चंद्रयान-3 की सॉफ्ट लैंडिंग 23 अगस्त को शाम को होगी. पूरे भारत की चंद्रयान-3 से उम्मीदें लगी हुई हैं. हालांकि अच्छी बात यह है कि अभी तक सबकुछ सही तरीके से और चरणबद्ध तरीके से चल रहा है. हाल ही में चंद्रयान-3 का विक्रम लैंडर प्रोप्लशन मॉड्यूल से अलग हुआ था, जिसके बाद से चंद्रयान-3 की लैंडिंग प्रक्रिया के शुरू हो गई थी. विक्रम लैंडर अब चांद से महज 25 किलोमीटर दूर रह गया है. वहीं विक्रम लैंडर से अलग हुए प्रोपल्शन मॉड्यूल को लेकर बड़ी खबर आई है.

150 किलोग्राम फ्यूल बचा
इसरो के पूर्व वैज्ञानिक विनोद कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि जब चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग हुई थी. तब प्रोपल्शन मॉड्यूल में 1696.4 किलोग्राम फ्यूल था. इसके बाद प्रोपल्शन मॉड्यूल के सहारे ही पृथ्वी के चारों तरफ पांच बार ऑर्बिट बदली गई. 6 बार इंजन ऑन किया गया था. इसके बाद चंद्रयान-3 के हाइवे पर गया. यानी ट्रांस-लूनर ट्रैजेक्टरी में पहुंचा. फिर चंद्रमा के चारों तरफ 6 बार प्रोपल्शन मॉड्यूल का इंजन ऑन किया गया. कुल मिलाकर 1546 किलोग्राम फ्यूल खत्म हुआ. अब 150 किलोग्राम फ्यूल बचा हुआ है. यानी यह केवल 3 से 6 महीने ही नहीं बल्कि कई वर्षों तक काम कर सकता है. इस बात की पुष्टि इसरो चीफ डॉ. एस सोमनाथ ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत करते हुए पुष्टि की.

यह भी पढ़ेंः Chandrayaan-3: बस 2 दिन और… फिर फतह हो जाएगा चांद! कैसे होगी चंद्रयान 3 की लैंडिंग, क्यों हो रहा सूर्योदय का इंतजार

प्रोपल्शन मॉड्यूल में 1696.4 किलोग्राम फ्यूल था
उन्होंने कहा कि हमारे पास उम्मीद से ज्यादा फ्यूल बचा है. यानी अगर सबकुछ ठीक रहा और ज्यादा कोई दिक्कत नहीं आई तो प्रोपल्शन मॉड्यूल कई वर्षों तक काम कर सकता है. यह सब चांद के चारों तरफ ऑर्बिट करेक्शन पर निर्भर करता है. बहुत सारा ईंधन बचा हुआ है क्योंकि चंद्रमा के रास्ते में सब कुछ बहुत नाममात्र का था और सुधार की आवश्यकता वाली कोई आकस्मिकता नहीं थी (जिसके लिए ईंधन खर्च किया गया होता). हमारे पास लगभग सारा मार्जिन बचा हुआ है, जो कि लगभग 150+ किलोग्राम है.” 14 जुलाई को लॉन्च के समय प्रणोदन मॉड्यूल में 1,696.4 किलोग्राम ईंधन भरा हुआ था.

Tags: Chandrayaan-3, ISRO

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!