Friday, July 19, 2024
Homeमहाराष्ट्रChandrayaan-3: दुनिया ने माना ISRO का लोहा, चंद्रयान-3 की सफलता पर विदेशी...

Chandrayaan-3: दुनिया ने माना ISRO का लोहा, चंद्रयान-3 की सफलता पर विदेशी मीडिया ने क्या कुछ कहा

भारत ने बुधवार शाम इतिहास रच दिया है. भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो (ISRO) के मून मिशन चंद्रयान-3 के विक्रम लैंडर ने बुधवार शाम को चांद की सतह पर उतर गया. भारत यह उपलब्धि हासिल करने वाला चौथा देश बन गया है. साथ ही चांद के दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचने वाला वह पहला देश बन गया है, जो अब तक अनछुआ था.
इस अभियान के तहत यान ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर सफल ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ की, जहां अभी तक कोई देश नहीं पहुंच पाया था. चांद की सतह पर अमेरिका, रूस (पूर्व सोवियत संघ) और चीन ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ कर चुके हैं, लेकिन उनकी ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर नहीं हुई थी. वहीं, विदेशी मीडिया ने भी भारतीय मून मिशन की प्रमुखता कवरेज की है. साथ ही इसरो और भारत की ऐतिहासिक उपलब्धि की जमकर तारीफ की है. आइए देखते हैं विदेशी मीडिया ने इस मिशन की सफलता पर क्या कहा है…

01

The New York Times अमेरिकी के प्रतिष्ठित अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी कवरेज में हेडिंग दी- In Latest Moon Race, India Lands First in Southern Polar Region. न्यूयॉर्क टाइम्स ने कहा कि भारतीय जनता पहले से ही देश के अंतरिक्ष कार्यक्रम की उपलब्धियों पर बहुत गर्व करती है, जिसने चंद्रमा और मंगल ग्रह की परिक्रमा की है और नियमित रूप से अन्य देशों की तुलना में बहुत कम आर्थिक संसाधनों में पृथ्वी के ऊपर उपग्रहों को लॉन्च किया है. लेकिन चंद्रयान-3 की ये उपलब्धि इन सबसे ज्यादा शानदार है.”

02

CNN ने अपनी हेडिंग दी- India makes historic moon landing. अमेरिकी मीडिया न्यूज ‘सीएनएन’ ने कहा कि रूस के असफल लूना-25 लैंडिंग प्रयास के बाद से भारत का मिशन और भी अधिक महत्वपूर्ण हो गया. चंद्रयान-3 की सफलता के साथ, भारत 21वीं सदी में चीन के बाद चंद्रमा पर अंतरिक्ष यान उतारने वाला दूसरा देश बन गया. चीन ने 2013 से अब तक चंद्रमा की सतह पर तीन लैंडर उतारे हैं, जिसमें चंद्रमा के सुदूर हिस्से को छूने वाला पहला लैंडर भी शामिल है.

03

The Washington Post ने अपनी कवरेज में हेडिंग दी- India lands a spacecraft softly on the moon’s surface. अमेरिका के बड़े न्यूज हाउस वॉशिंगटन पोस्ट ने कहा कि चंद्रयान-3 मिशन की सफल लैंडिंग अंतरिक्ष में बढ़ती महत्वाकांक्षाओं वाले देश के लिए एक जीत है. एक अरब से अधिक लोगों के देश भर में इसका जश्न मनाया गया.

04

BBC की हेडिंग – India makes history as Chandrayaan-3 lands near Moon’s south pole. ब्रिटेन के मीडिया हाउस बीबीसी ने अपनी कवरेज में कहा कि यह भारत के लिए एक बड़ा क्षण है. यह उन्हें स्पेस सुपरपावर की लिस्ट में ऊपर ले जाएगा. चंद्रमा पर उतरना बहुत आसान नहीं है. जैसा इस सप्ताह रूस के प्रयास ने उजागर किया है. कई मिशन विफल रहे हैं. इनमें भारत का पहला प्रयास भी शामिल है. लेकिन यह दूसरी बार भाग्यशाली रहा. भारत अब तीन अन्य देशों – अमेरिका, पूर्व सोवियत संघ और चीन में शामिल हो गया है, जिन्होंने चंद्रमा की सतह को सफलतापूर्वक छुआ है. वे अब उस क्षेत्र का पता लगाने के लिए तैयार हैं जहां कोई अन्य अंतरिक्ष यान नहीं गया है यानी चांद के दक्षिणी ध्रुव पर.

05

Al Jazeera ने कहा- India moon landing live news: Chandrayaan-3 makes space history.  कतर के मीडिया हाउस अल जजीरा ने कहा कि भारत ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास सफलतापूर्वक अंतरिक्ष यान उतारा, ऐसा करने वाला वह पहला देश बन गया.

06

Deutsche Welle ने हेडिंग दी- India spacecraft first to land on moon’s south poleजर्मन मीडिया हाउस डॉयशे वेेले ने चंद्रयान-3 की कवरेज पर कहा- नई दिल्ली में डीडब्ल्यू की ब्यूरो चीफ अमृता चीमा ने बताया कि इस सफलता को लेकर भारत “उत्साहित” है. भारत में एक युवा, जीवंत और बहुत महत्वाकांक्षी आबादी है और वे एक ऐसे देश का हिस्सा होने पर बहुत गर्व महसूस करते हैं जो भविष्य की ओर बढ़ रहा है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम है और अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम में भी बड़ी लीग का हिस्सा है.

07

The Guardian ने हेडिंग दी- India lands spacecraft near south pole of moon in historic first. ब्रिटिश मीडिया हाउस द गार्डियन ने कहा कि सफल लैंडिंग भारत के एक अंतरिक्ष शक्ति के रूप में उभरने का प्रतीक है, क्योंकि सरकार निजी अंतरिक्ष प्रक्षेपण और संबंधित उपग्रह-आधारित व्यवसायों में निवेश को बढ़ावा देना चाहती है.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!