Monday, May 20, 2024
Homeमहाराष्ट्रआबादी के मामले में चीन अब भी नंबर 1, भारत की जनसंख्या...

आबादी के मामले में चीन अब भी नंबर 1, भारत की जनसंख्या कितनी? केंद्र सरकार ने संसद में बताया

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने मंगलवार को लोकसभा में बताया कि इस साल 1 जुलाई को भारत की अनुमानित जनसंख्या चीन से कम थी. गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने एक लिखित उत्तर में कहा कि संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग के अनुसार, इस महीने की शुरुआत में चीन की कुल अनुमानित जनसंख्या लगभग 142 करोड़ थी. उन्होंने कहा कि एक अन्य अनुमान के अनुसार भारत की जनसंख्या 139 करोड़ थी.

उन्होंने कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग के जनसंख्या प्रभाग के ऑनलाइन प्रकाशन, विश्व जनसंख्या प्रॉस्पेक्टस 2022 के अनुसार, 1 जुलाई, 2023 को चीन की कुल अनुमानित जनसंख्या 142,56,71,000 रही. राष्ट्रीय जनसंख्या आयोग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा प्रकाशित जनसंख्या अनुमान पर तकनीकी समूह की रिपोर्ट के अनुसार, 1 जुलाई, 2023 तक भारत की अनुमानित जनसंख्या 139,23,29,000 रही.’

इस सवाल का जवाब देते हुए कि क्या केंद्र सरकार जनगणना को लेकर किसी समय सीमा का प्रस्ताव रखती है, गृह राज्य मंत्री ने कहा कि ‘जनगणना 2021’ आयोजित करने के लिए सरकार की मंशा 28 मार्च, 2019 को भारत के राजपत्र में अधिसूचित की गई थी. उन्होंने कहा, ‘कोविड-19 महामारी के प्रकोप के कारण जनगणना 2021 और संबंधित क्षेत्रीय गतिविधियां स्थगित करनी पड़ीं.’ संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग (यूएन डीईएसए) ने इस साल अप्रैल में कहा था कि चीन जल्द ही दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश के रूप में अपना लंबे समय से चला आ रहा दर्जा खो देगा. उसकी ओर से एक ट्वीट में कहा गया था कि इस महीने के अंत तक भारत की जनसंख्या 1,425,775,850 तक पहुंचने की उम्मीद है.

भारत में मुसलमानों की अनुमानित आबादी 19.75 करोड़
केंद्र सरकार ने लोकसभा को सूचित किया है कि 2023 में भारत में मुसलमानों की अनुमानित आबादी 19.75 करोड़ होगी. लोकसभा में टीएमसी सांसद माला रॉय के एक प्रश्न के लिखित उत्तर में अल्पसंख्यक मामलों की मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि 2011 की जनगणना के अनुसार, मुस्लिम आबादी 17.22 करोड़ है, जो देश की कुल आबादी का 14.2 प्रतिशत है. ईरानी ने कहा, ‘जनसंख्या अनुमान पर राष्ट्रीय जनसंख्या आयोग के तकनीकी समूह की जुलाई 2020 की रिपोर्ट के अनुसार, 2023 में देश की अनुमानित जनसंख्या 138.82 करोड़ रहेगी. तदनुसार, 14.2 प्रतिशत के समान अनुपात को लागू करते हुए, जैसा कि जनगणना 2011 में था, 2023 में मुसलमानों की अनुमानित जनसंख्या 19.75 करोड़ होगी.’

उन्होंने कहा कि सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा आयोजित आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (पीएलएफएस) 2021-22 के अनुसार, 7 वर्ष और उससे अधिक उम्र के मुसलमानों की साक्षरता दर 77.7 प्रतिशत है और सामान्य स्थिति के अनुसार सभी उम्र के लिए श्रम बल भागीदारी दर 35.1 प्रतिशत है. इसके अलावा, चयनित सतत विकास लक्ष्य संकेतकों पर डेटा एकत्र करने के लिए सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा आयोजित एकाधिक संकेतक सर्वेक्षण 2020-21 के अनुसार, पीने के पानी के बेहतर स्रोत होने की सूचना देने वाले मुस्लिमों का प्रतिशत 94.9 प्रतिशत है, और मंत्री ने कहा कि 97.2 प्रतिशत मुस्लिमों की बेहतर शौचालय तक पहुंच है.

ईरानी ने कहा कि 31 मार्च 2014 के बाद पहली बार नया घर या फ्लैट खरीदने या बनाने वाले मुस्लिम परिवारों का प्रतिशत 50.2 प्रतिशत है. अल्पसंख्यक मामलों की केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की मंगलवार को संसद में प्रतिक्रिया तृणमूल सांसद माला रॉय के 3 सवालों पर आई, जिसमें पूछा गया था कि क्या देश में 30 मई, 2023 तक मुस्लिम आबादी पर कोई डेटा है, क्या पसमांदा मुसलमानों की आबादी का कोई डेटा है और उनकी सामाजिक-आर्थिक स्थिति का विवरण है.

Tags: China Population, Muslim Population, National Population Census Program

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!