Thursday, February 22, 2024
Homeमहाराष्ट्रExplainer: रक्षा मंत्रालय ने साइबर सुरक्षा के लिए रचा 'चक्रव्‍यूह', फैलाएगा 'माया'...

Explainer: रक्षा मंत्रालय ने साइबर सुरक्षा के लिए रचा ‘चक्रव्‍यूह’, फैलाएगा ‘माया’ जाल

Chakravyuh of Defense Ministry: केंद्रीय रक्षा मंत्रालय ने अपने कंप्‍यूटर्स को साइबर हमलों से सुरक्षा उपलब्‍ध कराने के लिए खास ‘चक्रव्‍यूह’ रचा है. इसके लिए मंत्रालय ‘माया’ का इस्‍तेमाल करेगा. दरअसल, मंत्रालय अपने कंप्‍यूटर्स में अब माइक्रोसॉफ्ट विंडोज को हटाकर स्‍वेदशी ऑपरेटिंग सिस्‍टम ‘माया’ को इंस्‍टॉल करेगा. मंत्रालय के मुताबिक, ओपन-सोर्स उबंटू पर आधारित ऑपरेटिंग सिस्‍टम माया साइबर खतरों से बचाता है. साथ ही सुरक्षा को बढ़ाते हुए एक परिचित इंटरफेस उपलब्‍ध करता है.

मंत्रालय ने बताया कि स्‍वदेशी ऑपरेटिंग सिस्‍टम माया प्राचीन भारतीय रक्षा रणनीति से प्रेरित एक सुरक्षात्मक सुविधा ‘चक्रव्यूह’ का इस्‍तेमाल करता है. इसे साल के अंत तक मंत्रालय में लागू कर दिया जाएगा, जिससे साइबर सुरक्षा बढ़ेगी और विदेशी सॉफ्टवेयर पर निर्भरता कम होगी. थल सेना, नौसेना और वायु सेना भी माया ओएस को अपनाने के लिए तैयार हैं. जानते हैं कि माया ओएस क्‍या है? इसे कैसे डेवलप किया गया और इसकी जरूरत क्‍यों पड़ी?

ये भी पढ़ें – देश के इकलौते राष्‍ट्रपति, जो गवाही देने सुप्रीम कोर्ट पहुंचे, कटघरे में लगाया गया सोफा

स्‍वदेशी ऑपरेटिंग सिस्‍टम माया क्या है?
स्‍वदेशी ऑपरेटिंग सिस्‍टम माया अपने कंप्यूटर सिस्टम को साइबर हमलों से बचाने के लिए केंद्रीय रक्षा मंत्रालय की ओर से विकसित नया ओएस है. यह ओपन-सोर्स उबंटू प्लेटफॉर्म पर आधारित है. इसका सीधा मतलब है कि यह मुफ्त और सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध सॉफ्टवेयर का इस्‍तेमाल करता है. ऑपरेटिंग सिस्‍टम माया का लक्ष्य विंडोज ओएस जैसा एक इंटरफेस और कार्यक्षमता उपलब्‍ध कराते हुए साइबर खतरों के खिलाफ मजबूत सुरक्षा प्रदान करना है. इससे यूजर्स को बेहतरीन और सुरक्षित अनुभव मिलेगा.

Explainer, Ministry of Defense, Indigenous OS Maya, Windows OS, Army, Navy, Air Force, Indian Defence Tactics, Maya OS shields, Cyber Threats, Maya OS, What is Maya OS, Microsoft Windows, Microsoft, Windows, Ubuntu, Defence Ministry, Defence Ministry computers, computer OS, Made In India OS, Boosting Security, Ubuntu, Microsoft Windows, Cyber Attacks, Chakravyuh

माया अपने कंप्यूटर सिस्टम को साइबर हमलों से बचाने के लिए केंद्रीय रक्षा मंत्रालय की ओर से विकसित नया ओएस है.

हैकर्स को डेटा तक पहुंचने से रोकेगा
माया चक्रव्यूह नाम के एक फीचर के साथ आता है, जो एक एंड-पॉइंट एंटी-मैलवेयर और एंटीवायरस सॉफ्टवेयर है. ये यूजर्स और इंटरनेट के बीच एक वर्चुअल लेयर बनाता है, जो हैकर्स को संवेदनशील डेटा तक पहुंचने से रोकती है. उम्‍मीद जताई जा रही है कि इस साल के अंत तक रक्षा मंत्रालय के सभी कंप्यूटरों में ऑपरेटिंग सिस्‍टम माया इंस्‍टॉल कर दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें – राजस्थान की उस राजपूत राजकुमारी की कहानी, जिनकी शादी पाकिस्तान में हुई, वहां किस हाल में हैं वो

कैसे हुआ माया ओएस का डेवलपमेंट?
स्‍वदेशी ऑपरेटिंग सिस्‍टम माया का डेवलपमेंट 2021 में शुरू हुआ था. इस दौरान भारत को विदेशी जमीन से कई साइबर हमलों का सामना करना पड़ा था. हैकर्स ने कई अहम बुनियादी ढांचा और रक्षा प्रणालियों को टारगेट बनाया था. इसके बाद रक्षा मंत्रालय ने माइक्रोसॉफ्ट विंडोज के बजाय स्थानीय ओएस के इस्‍तेमाल का फैसला लिया. माना गया कि स्‍वदेशी ओएस ज्‍यादा सुरक्षित और भरोसेमंद होगा. रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन यानी डीआरडीओ, उन्‍नत कंप्यूटिंग विकास केंद्र यानी सी-डैक और राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र यानी एनआईसी समेत कई सरकारी एजेंसियों के विशेषज्ञों की टीम ने माया ओएस के डेवलपमेंट पर काम किया. इस टीम ने ओएस के परीक्षण और सुधार के लिए भारतीय सॉफ्टवेयर कंपनियों व शैक्षणिक संस्थानों का सहयोग लिया. ये ओएस छह महीने में डेवलप कर लिया गया था.

ये भी पढ़ें – Explainer: सांसदों-मंत्रियों को सरकारी बंगले कैसे होते हैं अलॉट, क्‍या हैं खाली कराने के नियम

क्या है ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर उबंटू?
उबंटू Linux पर आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम है, जो कंप्यूटर, सर्वर और दूसरे उपकरणों पर चलता है. यह मुफ्त ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर है, जिसे कोई भी इस्‍तेमाल और संशोधित कर सकता है. उबंटू का इस्‍तेमाल काफी आसान और सुरक्षित है. यह काम, मनोरंजन और शिक्षा के लिए कई एप्‍लीकेशंस के साथ आता है. यूजर्स उबंटू सॉफ्टवेयर सेंटर से हजारों एप्लिकेशन डाउनलोड कर सकते हैं. उबंटू को नई सुविधाओं और सुरक्षा सुधारों के साथ नियमित रूप से अपडेट किया जाता है. यूजर्स उबंटू को इसकी आधिकारिक वेबसाइट से मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं.

Explainer, Ministry of Defense, Indigenous OS Maya, Windows OS, Army, Navy, Air Force, Indian Defence Tactics, Maya OS shields, Cyber Threats, Maya OS, What is Maya OS, Microsoft Windows, Microsoft, Windows, Ubuntu, Defence Ministry, Defence Ministry computers, computer OS, Made In India OS, Boosting Security, Ubuntu, Microsoft Windows, Cyber Attacks, Chakravyuh

हैकर जब रक्षा मंत्रालय के कंप्यूटर सिस्टम को हैक करने की कोशिश करेंगे तो उन्हें माया या भ्रम का सामना करना पड़ेगा.

भ्रम की अवधारणा पर रखा गया है नाम
ऑपरेटिंग सिस्‍टम माया का नाम भ्रम की प्राचीन भारतीय अवधारणा के नाम पर रखा गया है, जो वास्तविकता की भ्रामक उपस्थिति से जुड़ा है. नाम से ही स्‍पष्‍ट है कि जब हैकर रक्षा मंत्रालय के कंप्यूटर सिस्टम को हैक करने की कोशिश करेंगे तो उन्हें माया या भ्रम का सामना करना पड़ेगा. माया युद्ध की प्राचीन भारतीय कला से भी प्रेरित है. यह चक्रव्यूह नाम की एक सुविधा का इस्‍तेमाल करता है, जो एक बहुस्तरीय रक्षात्मक संरचना है. इसका इस्‍तेमाल महाकाव्य महाभारत में किया गया था.

ये भी पढ़ें – Explainer: क्या है दिल्ली सर्विस बिल, कितने ताकतवर हो जाएंगे एलजी, केंद्र को मिलेंगे क्‍या अधिकार

माया करता है एमएस विंडोज की नकल
माया यूजर्स फ्रेंडली और फैमिलियर इंटरफेस उपलब्‍ध कराने के लिए डिजाइन किया गया है. दरअसल, यह विंडोज के स्वरूप और अनुभव की नकल करता है. यह उन सभी एप्‍लीकेशंस और सॉफ्टवेयर्स को भी सपोर्ट करता है, जो रक्षा मंत्रालय में इस्‍तेमाल किए जाते हैं. बता दें कि रक्षा मंत्रालय में अमूमन माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस, एडोब फोटोशॉप और ऑटोकैड जैसी एप्‍लीकेशंस इस्‍तेमाल की जाती हैं. माया ओएस क्लाउड स्टोरेज, एंक्रिप्‍शन, डिजिटल सिग्‍नेचर, बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेसन जैसी सुविधाएं भी उपलब्‍ध कराता है. माया विदेशी सॉफ्टवेयर पर रक्षा मंत्रालय की निर्भरता को भी कम करेगा.

Tags: Cyber Attack, Cyber security company, Defence ministry, Hackers, Ministry of Defense, Software

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!