Thursday, May 23, 2024
Homeमहाराष्ट्रअब दिल्‍ली में नहीं आएगी बाढ़! हरियाणा कर रहा हथिनी कुंड बैराज...

अब दिल्‍ली में नहीं आएगी बाढ़! हरियाणा कर रहा हथिनी कुंड बैराज पर बांध बनाने की तैयारी, ऐसे होगी बंपर कमाई भी

नई दिल्‍ली. यमुना नदी में आई बाढ़ ने जुलाई के महीने में खूब सुर्खियां बटोरी थी. देश की राजधानी दिल्‍ली के कई इलाके जलमग्‍न हो गए थे. समस्‍या से निजात पाने के लिए हरियाणा सरकार एक विशेष योजना पर काम कर रही है. इंडियन एक्‍सप्रेस अखबार की रिपोर्ट के अनुसार हरियाणा सरकार हथिनी कुंड बैराज पर बांध बनाने की योजना बना रही है. 6,134 करोड़ रुपये की लागत से बांध बनाया जाएगा, जिसमें 14 किलोमीटर लंबा जलाशय होगा. इसे यमुनानगर जिले में हथिनीकुंड बैराज से 4.5 किलोमीटर ऊपर की ओर बनाया जाएगा.

रिपोर्ट में बताया गया कि हरियाणा सरकार की योजना के तहत इस बांध के निर्माण के लिए राष्‍ट्रीय राजमार्ग-73 के 11 किलोमीटर लंबे हिस्से को स्थानांतरित करने के अलावा नौ गांवों को विस्थापित किया जाएगा. इसके अंतर्गत कालेसर राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्य सहित वन भूमि का एक बड़ा हिस्सा बांध क्षेत्र में आने के बाद जलमग्न हो जाएगा. हरियाणा जल संसाधन विभाग के चीफ इंजीनियर सतबीर सिंह कादियान ने इस पूरे प्रोजेक्‍ट पर कहा, “परियोजना पूरी होने के बाद बाढ़ के पानी का रिजर्वायर बनाया जाएगा. ऐसा करने से ना सिर्फ दिल्‍ली व हरियाणा के क्षेत्रों को बाढ़ से बचाया जा सकेगा बल्कि इस पानी का इस्‍तेमाल पश्चिमी यमुना नहर के माध्‍यम से सिंचाई में हो पाएगा.

यह भी पढ़ें:- पाकिस्‍तान के बलूचिस्‍तान में बड़ा बम धमाका, यूनियन काउंसिल के चेयरमैन समेत 7 की मौत

497 करोड़ का होगा फायदा
इस बांध के माध्‍यम से हरियाणा सरकार खूब मुनाफा कमाने की योजना बना रही है. हरियाणा सरकार के एक अधिकारी ने मीडिया हाउस को बताया कि एक बार परियोजना पूरी हो जाने के बाद राज्य इससे 250 मेगावाट बिजली का उत्पादन कर पाएगा, जो राज्‍य के काम आएगी. साथ ही सिंचाई के लिए अतिरिक्‍त पानी, ग्राउंड वाटर में बढ़ोतरी और एक्‍वाकल्‍चर से राज्‍य को 497 करोड़ रुपये का वित्तीय लाभ होगा.

तीन गुना क्षमता…
नए बांध क्षेत्र की सीमा उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश से भी लगती है. इसके जलाशय की क्षमता 10.82 लाख क्यूसेक होगी. जुलाई में यमुना नदी में आई बाढ़ के दौरान हथिनीकुंड बैराज से 3.6 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था, जिसके कारण हरियाणा, दिल्‍ली और उत्‍तर-प्रदेश के कई इलाके जलमग्‍न हो गए थे. नए बांध की क्षमता जुलाई में छोड़े गए पानी से करीब तीन गुना होगी.

Tags: Delhi Flood, Haryana news, Haryana News Today

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!