Thursday, June 13, 2024
Homeमहाराष्ट्रआयुर्वेद के इस अस्‍पताल में 15 लाख मरीज हुए ठीक, 345 आयुर्वेदिक...

आयुर्वेद के इस अस्‍पताल में 15 लाख मरीज हुए ठीक, 345 आयुर्वेदिक डॉक्‍टर हो रहे तैयार, अब बनाया एक और रिकॉर्ड

Ayurveda Hospital New Delhi: एक तरफ जहां देश में बड़े-बड़े मेडिकल कॉलेज और अस्‍पताल खुल रहे हैं और लाखों की संख्‍या में मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं वहीं भारत में आयुर्वेद भी एक बार फिर अपनी जगह मजबूत कर रहा है. कोरोना के बाद से आयुर्वेद पर बढ़े विश्‍वास का ही नतीजा है कि दिल्‍ली के आयुर्वेदिक अस्‍पताल में पिछले 5 साल में 15 लाख से ज्‍यादा मरीजों ने इलाज कराया है और स्‍वस्‍थ होकर घर लौटे हैं.

आयुष मंत्रालय के तहत आने वाले इस अस्‍पताल में आयुर्वेद चिकित्‍सा से बड़ी संख्‍या में मरीजों की विभिन्‍न बीमारियों का इलाज करने के लिए रोजाना कई विभागों की ओपीडी लगती है. पीडियाट्रिक से लेकर ऑब्‍स्‍टेट्रिक्‍स एंड गायनेकोलॉजी, इंटर्नल मेडिसिन, पैथोलॉजी, सर्जरी, आई एंड ईएनटी, प्रिवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन आदि विभागों में मरीजों का इलाज किया जाता है.

ये भी पढ़ें- रोजाना कितना चलें पैदल? हर उम्र का अलग है हिसाब, गायब हो जाएगा मोटापा, ब्‍लड शुगर भी होगा कंट्रोल

हम बात कर रहे हैं दिल्‍ली के सरिता विहार स्थित ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ आयुर्वेदा की. एआईआईए ने लाखों मरीजों के इलाज के साथ ही बड़ी संख्‍या में आयुर्वेद चिकित्‍सक भी तैयार किए हैं. यहां पीजी एवं पीएचडी में 345 छात्र पढ़ाई कर रहे हैं जबकि गोवा के सेटेलाइट केंद्र में 100 छात्रों ने बीएएमएस में पिछले वर्ष दाखिला लिया है.

एआईआईए की निदेशक डॉ. तनुजा नेसरी बताती हैं कि अस्‍पताल ने हाल ही में एक और रिकॉर्ड कायम किया है. राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद की समीक्षा में अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान ने ‘ए++’ ग्रेड हासिल किया है. यह उपलब्धि हासिल करने वाला यह देश का पहला आयुर्वेद संस्‍थान है.

डॉ. नेसरी ने कहा कि राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (NAAC) से संस्थान को ए++ ग्रेड के साथ 3.55 का संचयी ग्रेड पॉइंट औसत (सीजीपीए) से नवाजा गया है. यह रैंक मिलने के बाद अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान के लोग काफी खुश हैं. यह एक दिन की मेहनत का नतीजा नहीं बल्कि इसके लिए उन्होंने लगातार पांच वर्षों से लगातार मेहनत की है. यह पूरे संसथान के सामूहिक प्रयास का नतीजा है.

गौरतलब है साल 2017 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस संस्थान का उदघाटन किया था तब से लेकर यह संस्थान नई ऊंचाइयों को छू रहा है. इस संस्थान ने राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर विख्यात 54 MOU पर हस्ताक्षर किए हैं. इस संस्थान में आयुर्वेद के क्षेत्र में 1500 से ज्यादा प्रकाशन किया गया है.

ये भी पढ़ें- Eye Flu Treatment: आई फ्लू 24 घंटे में हो जाएगा ठीक, घर में रखी इन 3 चीजों से धो लें आंखें, आयुर्वेद चिकित्‍सक ने बताए नुस्खे

Tags: Ayurveda Doctors, Health

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!