Thursday, June 13, 2024
Homeमहाराष्ट्रराजस्थान: नए जिलों के गठन के बाद सीएम गहलोत ने अब और...

राजस्थान: नए जिलों के गठन के बाद सीएम गहलोत ने अब और जगाई आस, कहा- ‘उम्मीदें अभी जिंदा हैं…’

हाइलाइट्स

सीएम गहलोत का बड़ा बयान
गहलोत बोले रामलुभाया कमेटी का कार्यकाल बढ़ा दिया है
सीएम ने कहा जहां से भी मांग आयेगी उसका परीक्षण कराया जायेगा

जयपुर. जनभावनाओं का हुआ सम्मान 50 जिलों का हुआ राजस्थान. नए जिलों की घोषणा के बाद गहलोत सरकार का यह स्लोगन पिछले कई दिनों से चर्चा में है. अब राजस्थान में जिलों की संख्या 33 से बढ़कर 50 हो गई है. आज इन नए जिलों के गठन को लेकर प्रदेश के नवगठित जिला मुख्यालयों पर धूमधाम से कार्यक्रम हुए. जयपुर से सीएम अशोक गहलोत ने मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ वर्चुअली इन जिलों के स्थापना दिवस समारोह को संबोधित किया.

गहलोत बोले राजस्थान ने आज नया इतिहास बनाया है. आजादी के वक्त 22 रजवाड़े थे. बाद में 26 जिले बने. उस वक्त प्रदेश की आबादी सिर्फ 1 करोड़ 75 लाख ही थी. अब जनसंख्या 7 करोड़ के पार हो गई है. प्रशासनिक नियंत्रण के लिए नये जिलों की लंबे समय से जरूरत महसूस की जा रही थी. जिला मुख्यालयों से लंबी दूरी को देखते हुए सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. यह फैसला प्रदेश को तरक्की की राह पर तेजी से आगे बढ़ाएगा.

जनता को सस्ता और सुलभ न्याय मिलेगा
गहलोत ने उम्मीद जताई कि नये जिलों के गठन से सरकार की योजनायें तेजी से धरातल पर लागू होंगी. सरकार के गुड गवर्नेंस का सपना साकार होगा. लोगों की शासन प्रशासन में भागीदारी बढ़ेगी. सस्ता और सुलभ न्याय जनता को मिलेगा. लंबित मुकदमों का निपटारा होगा. गहलोत ने इस दौरान उन लोगों का भी जिक्र किया जो अपने कस्बे के जिला नहीं बन पाने से निराश हैं. गहलोत बोले कि उम्मीदें जिंदा हैं. रामलुभाया कमेटी का कार्यकाल छह महीने और बढ़ा दिया गया है.

गहलोत ने फिर जगाई और नए जिलों के गठन की उम्मीद की लौ
गहलोत ने कहा कि कि जहां से भी मांग आयेगी उसका परीक्षण कराया जायेगा. मांग उचित होगी तो सरकार को नये जिले बनाने में कोई कठिनाई नहीं आयेगी. गहलोत ने यह कहकर एक बार उन लोगों की उम्मीदों को हरा कर दिया है जो लंबे समय से अपने शहर और कस्बे को जिले का दर्जा दिलाने के लिए सड़कों पर संघर्ष कर रहे हैं. राजस्व मंत्री रामलाल जाट बोले नये जिलों से जनप्रतिनिधियों की सरकार में भागीदारी बढ़ेगी. जिला प्रमुख से लेकर प्रधान तक के नये पद सृजित होंगे.

नये जिले किस पार्टी का चुनावी जायका बढ़ायेंगे?
नये जिलों को लेकर कहीं जश्न मनाया जा रहा है तो कहीं विरोध के स्वर सामने आ रहे हैं. गहलोत सरकार ने कई जिलों की बरसों पुरानी मांग पूरी कर दी तो कईयों को बिना मांगे ही जिला मिल गया. कई बड़े कस्बों की हसरतें अब भी अधूरी हैं. सरकार ने पूरे सियासी नफे नुकसान का आकलन कर जिलों की घोषणा की है. अब नये जिले किस पार्टी का चुनावी जायका बढ़ायेंगे और किसकी थाली का मजा किरकिरा करेंगे ये तो चुनावी रण में ही पता चल पायेगा.

Tags: Ashok Gahlot, Jaipur news, Rajasthan news, Rajasthan Politics

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!