Friday, July 19, 2024
Homeमहाराष्ट्रभाजपा कार्यकर्ता विजय सिंह की मौत पर चश्मदीद के नए बयान से...

भाजपा कार्यकर्ता विजय सिंह की मौत पर चश्मदीद के नए बयान से आया ट्विस्ट, News 18 से बताई पूरी कहानी

हाइलाइट्स

भाजपा कार्यकर्ता विजय सिंह मौत के मामले में चश्मदीद का नया बयान.
चश्मदीद भरत चंद्रवंशी पटना में दिए बयान से जहानाबाद में पलट गए.
पटना में हड़बड़ी में बयान देने की बात कही, मौत का कारण लाठीचार्ज.

राजीव रंजन विमल/जहानाबाद. बिहार की राजधानी पटना में विधान सभा मार्च के दौरान गुरुवार (13 जुलाई) को पुलिस लाठीचार्ज में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता विजय सिंह की मौत के बात बिहार की राजनीति में उबाल है. इस पर सत्ता पक्ष और विरोधी भाजपा आमने-सामने है. इसी क्रम में विजय सिंह के साथ पटना गए उनके साथी भरत प्रसाद चंद्रवंशी के बयान को लेकर सत्ताधारी दल के नेता ट्वीट और सोशल मीडिया में उसे शेयर कर रहे हैं. यह दिखाने की कोशिश कर रहे हैं कि भाजपा कार्यकर्ता विजय सिंह की मौत पुलिस लाठीचार्ज से नहीं बल्कि अन्य कारणों से हुई है. लेकिन, अब भरत प्रसाद चंद्रवंशी ने अपना बयान पलट दिया है.

पटना में भरत प्रसाद चंद्रवंशी ने कहा था कि विजय सिंह की मौत भगदड़ में गिरने के वजह से हुई थी, लेकिन जहानाबाद आते-आते उनका बयान बदल गया. भरत प्रसाद ने कहा कि पटना में उन्होंने बयान हड़बड़ी में दे दिया था. शुक्रवार की शाम न्यूज़ 18 की टीम भरत चंद्रवंशी के घर पहुंची जहां, भरत प्रसाद चंद्रवंशी ने कहा कि सही बात यह है कि उन्हें पुलिस की लाठी से चोट लगी थी और चोट लगने के बाद ही वह गिरे थे.

भरत चंद्रवंशी ने बताया कि वह और विजय सिंह अपने 10-12 कार्यकर्ताओं के के साथ पटना के प्रदर्शन में शामिल होने गए थे. जैसे ही वे गांधी मैदान के पास पहुंचे तो वहां लाठीचार्ज हो गया. जैसे ही पुलिस ने लाठीचार्ज किया वहां मौजूद कार्यकर्ताओं में भगदड़ सी मच गई. पुलिसिया लाठीचार्ज के शिकार उनके साथी विजय सिंह भी हो गए और उसके सिर में चोट लगी और वे गिर पड़े.

भरत चंद्रवंशी ने बताया कि किसी तरह विजय सिंह को रिक्शा से तारा हॉस्पिटल ले गए, जहां उन्हें एक मशीन पर चढ़ाया गया. लेकिन, वहां मौजूद अस्पताल के कर्मचारी ने बोला कि अब ये नहीं रहे, जिसके बाद इसकी जानकारी अपने कार्यकर्ता को दी. उन्होंने बताया कि वहां से पीएमसीएच ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया.

अब यादों में ही जिंदा रहेंगे विजय कुमार सिंह
वहीं अब उनके बयान से पलटने के बाद एक बार फिर सवाल खड़ा हो रहा है कि क्या भरत प्रसाद चंद्रवंशी ने पटना में जो बयान दिया था वह सही था, क्या उनसे इस तरह किसी ने दिलवाया था? या जो अब जहानाबाद में बोल रहे हैं वह सही है? भारत तो यह कह रहे हैं कि वहां उन्होंने अस्पताल की गैलरी में मौजूद किसी से बात की थी और तब हड़बड़ी में जो समझ आया था बोल दिया था. बहरहाल, सच्चाई का पता जांच के बाद ही पता चल पाएगा कि भाजपा कार्यकर्ता विजय सिंह की मौत की वजह क्या थी?

मौत पर सियासत से परिवार और ग्रामीण नाराज
एक तरफ विजय सिंह की मौत पर सियासत हो रही है तो दूसरी तरफ परिजन इस पर दुख जता रहे हैं. उनके छोटे भाई कमल किशोर और सुनील ने कहा कि उनके भाई की मौत रैली के दौरान भगदड़ में हुई तो फिर इससे इनकार करने की वजह समझ में नहीं आता. ग्रामीण कुंदन कुमार बिमल, गोपाल सिंह, संजीव रंजन, संतोष किशन जैसे युवा भी विजय सिंह की मौत पर हो रही सियासत से नाराज हैं.

Tags: Bihar BJP, Bihar News, Jehanabad news, Police Lathicharge

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!