Friday, July 19, 2024
Homeमहाराष्ट्रराजस्थान: कोटा में एक और छात्र ने लगाया मौत को गले, सात...

राजस्थान: कोटा में एक और छात्र ने लगाया मौत को गले, सात माह में 16 ने दी जान, परिजन हुए खौफजदा

हाइलाइट्स

एक और छात्र ने की आत्महत्या
आईआईटी की कोचिंग करने कोटा आया था
जवाहर नगर थाना क्षेत्र का बताया जा रहा है मामला

कोटा. कोचिंग सिटी कोटा में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों की मौत का सिलसिला थम नहीं रहा है. यहां एक और छात्र ने फांसी का फंदा लगाकर अपनी जान दे दी. सुसाइड करने वाला छात्रा जालोर का रहने वाला था. वह एक एक सप्ताह पहले ही आईआईटी की कोचिंग करने कोटा आया था. लेकिन रविवार रात को उसने पंखे से लटककर अपनी जान दे दी. पुलिस को मृतक छात्र के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. इसके कारण आत्महत्या के कारणों अभी तक पता नहीं चल पा रहा है. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.

पुलिस के अनुसार मामला कोटा के जवाहर नगर थाना इलाके के राजीव नगर हॉस्टल का बताया जा रहा है. छात्र की मौत की खबर सुनते ही परिजन जालोर से कोटा पहुंचे. मृतक के चाचा ने बताया कि उनका भतीजा काफी होनहार छात्र था. उसने दसवीं की परीक्षा में 85 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे. उन्होंने इस मामले में जांच करने की मांग उठाई. छात्र परिजनों ने सवाल उठाया कि आखिर कोटा में लगातार ऐसा क्यों हो रहा है? बच्चे अपनी मर्जी से यहां आते हैं. इस बच्चे ने खुशी- खुशी अपने माता- पिता से बात करके यहां पर एडमिशन लिया है. उसे किसी प्रकार का तनाव था. वह अभी 11वीं कक्षा में था और सात दिन पहले ही घर से आया था.

लगातार बढ़ रहे हैं मामले
गौरतलब है कि कोटा शहर में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की आत्महत्या के मामलों में साल दर साल बढ़ोतरी हो रही है. शहर में इस साल अब तक कुल 16 छात्र अपनी जान दे चुके हैं. इसने सरकार से लेकर पुलिस प्रशासन की टेंशन बढ़ा दी है. कोटा में 10 दिन पहले ही उत्तरप्रदेश के रामपुर के रहने वाले छात्र ने फांसी के फंदे से लटककर आत्महत्या कर ली थी. वह छात्र भी आईआईटी की कोचिंग करने कोटा आया था.

साल 2022 में 15 स्टूडेंट्स ने आत्महत्या की थी
साल 2019- 20 में आई कोरोना महामारी के दौर को छोड़ दिया जाए तो पिछले कुछ बरसों से कोटा में छात्रों की सुसाइड की मामले लगातार बढ़ रहे हैं. साल 2022 में 15 स्टूडेंट्स ने आत्महत्या की थी. उसके बाद अब कोटा में पढ़ने वाले बाहर के बच्चों के परिजनों में चिंता की लहर है. हालांकि बीते दिनों प्रशासन ने कोचिंग स्टूडेंट को तनाव मुक्त रखने के लिए कुछ कदम उठाए थे. यह दीगर बात है कि उनकी शत प्रतिशत पालना हो रही है नहीं.

Tags: Kota news, Rajasthan news, Rajasthan police, Suicide Case

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!