Sunday, July 14, 2024
Homeमहाराष्ट्रKiratpur Manali Four Lane Speed Limit: कीरतपुर-नेरचौक-मनाली फोरलेन पर क्यों रखी गई...

Kiratpur Manali Four Lane Speed Limit: कीरतपुर-नेरचौक-मनाली फोरलेन पर क्यों रखी गई है 60 KMPH स्पीड, NHAI ने बताया तर्क

मंडी. सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण माने जाने वाले कीरतपुर-मनाली फोरलेन के एक हिस्से को रविवार को ट्रैफिक के लिए खोल दिया गया है. कीरतपुर से नेरचौक तक वाहन दौड़ना शुरू हो गए हैं. हालांकि, इस फोरलेन पर 60 किमी प्रतिघंटा स्पीड लिमिट तय की गई है और इस पर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई है. लोग स्पीड लिमिट 80 किमी प्रतिघंटा करने की मांग कर रहे हैं. लोगों का तर्क है कि यदि साठ की ही स्पीड में चलना है तो फिर पुराना हाईवे ही बेहतर था, जिस पर कोई टोल टैक्स भी नहीं लग रहा था.

दरअसल, फोरलेन पर स्पीड लिमिट का नियम तोड़ने पर ऑनलाइन चालान होगा. यहां पर जगह जगह कैमरे और स्पीडोमीटर लगे हुए हैं. यदि 60 से अधिक स्पीड गई तो सीधा घर चालान आएगा. बता दें कि कीरतपुर से नेरचौक तक बने इस पैच की लंबाई 77 किलोमीटर है, जहां पर स्पीड लिमिट 60 किमी प्रतिघंटा तय की गई है.

हिमाचल प्रदेश के पूर्व डीजीपी आईडी भंडारी ने सोशल मीडिया पर लिखा कि एक्सप्रेसवे पर स्पीड लिमिट 120 किमी प्रतिघंटा और हाईवे और गांव के मार्गों पर 100 से लेकर 70 किमी प्रतिघंटा रहती है. ऐसे में इस फोरलेन पर क्या पैसे कमाने या फिर हादसे रोकने के लिए स्पीड लिमिट 60 किमी रखी गई है. उन्होंने कहा कि इस मार्ग पर 60 किमी प्रतिघंटा से गाड़ी चलाना मुश्किल है.

प्रोजेक्ट डायरेक्टर ने बताया कारण

कीरतपुर-मनाली फोरलेन प्रोजेक्ट डायरेक्टर वरुण चारी ने बताया कि जिला प्रशासन के निर्देशों के बाद कुल्लू मंडी की सीमा पर बने टकोली टोल प्लाजा को फिलहाल बंद किया गया है. केंद्रीय सड़क परिवहन एवं मंत्रालय द्वारा विभिन्न राजमार्गों पर वाहन चलाने के लिए गति के मानक निर्धारित किए गए हैं. कीरतपुर से मनाली तक बनने वाला यह फोरलेन अधिकतर पहाड़ों से होकर गुजर रहा है. ऐसे में हिमाचल जैसे पहाड़ी राज्य में फोरलेन पर वाहनों की स्पीड 40 से 60 किलोमीटर प्रति घंटा रहती है. यह नियम है.  उन्होंने बताया कि अगले साल मई और जून तक फोरलेन के निर्माण पूरा हो जाएगा.

11 साल का लंबा इंतजार
कीरतपुर-नेरचौक-मनाली फोरलेन बनाने के लिए 11 साल का वक्त लगा है. इस मार्ग पर 4200 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. हालांकि, अब तक केवल मंडी के नागचला तक ही यह फोरलेन पूरी तरह से खोला गया है. मंडी से आगे यह हाईवे निर्माणाधीन है. पंडोह के पास फोरलेन के कुछ हिस्से का निर्माण हुआ है और यहां पर पांच टनल्स को ट्रैफिक के लिए खोला गया है. इस पूरे मार्ग पर 4 टोल प्लाजा रहेंगे.

Tags: Himachal pradesh, Kullu Manali News, Shimla News Today

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!