Sunday, July 14, 2024
Homeमहाराष्ट्रManipur News: 78 की उम्र और पढ़ाई का ऐसा जज्‍बा, 3KM चलकर...

Manipur News: 78 की उम्र और पढ़ाई का ऐसा जज्‍बा, 3KM चलकर स्‍कूल जाते हैं 9वीं के लालरिंगथारा, मकसद कर देगा हैरान

नई दिल्‍ली. हिंसाग्रस्‍त मणिपुर बीते दो महीने से नकारात्‍मक कारणों से सुर्खियों में है. दो महिलाओं को निर्वस्‍त्र कर घुमाने की घटना ने देश ही नहीं विदेशों में भी खूब सुर्खियां बटोरी. संसद की कार्यवाही भी इस मुद्दे लंबे वक्‍त से ठप है. इसी बीच मणिपुर से एक ऐसी घटना सामने आई है, जो लोगों के चेहरे पर थोड़ी खुशी तो जरूर लेकर आएगी. मणिपुर में भारत- म्यांमार सीमा पर स्थित चम्फाई जिले में एक छोटे से गांव में रहने वाले 78 वर्षीय लालरिंगथारा नामक बुजुर्ग ने इतनी अधिक उम्र में अपनी स्‍कूली शिक्षा को फिर से शुरू किया है. वो यूनिफॉर्म पहनकर हर रोज सुबह तीन किलोमीटर पैदल चलने के बाद स्‍कूल पहुंचते हैं.

टाइम्‍स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान लालरिंगथारा बताते हैं कि बेहद कम उम्र में ही उन्‍होंने अपने पिता को खो दिया था, जिसके बाद मां के साथ खेतों में काम करने के चलते पढ़ाई को छोड़ना पड़ा. बेहद अधिक गरीबी और मुश्किल परिस्थितियों के कारण कई बार उनकी शिक्षा बीच में रुकी, लेकिन इसके बावजूद पढ़ाई के प्रति उनका जज्‍बा कभी कम नहीं हुआ. जब भी मौका मिला, उन्‍होंने अपनी पढ़ाई को फिर से शुरू किया. साल 1945 में जन्‍में लालरिंगथारा ने स्‍कूल के लिए साथ चलते वक्‍त रिपोर्टर को बताया कि खुआंगलांग में रहते वक्‍त मैंने दूसरी कक्षा तक पढ़ाई की थी. इसके बाद पढ़ाई को लंबा ब्रेक लग गया. 1995 में उनकी मां ह्रुआइकोन गांव में शिफ्ट हो गई. तब तीन साल बाद वो वापस स्‍कूल जा सके.

मिजोरम भाषा में शिक्षित हैं लालरिंगथारा
लालरिंगथारा बताते हैं, ‘दूर के रिश्‍तेदारों की देखरेख में पढ़ाई ज्‍यादा आगे नहीं बढ़ सकी. उन्‍हें शिक्षा के संदर्भ में ज्‍यादा दिलचस्‍पी नहीं थी. खेतों में लंबे वक्‍त तक काम करना पड़ता था. वही प्राथमिकता भी थी.’ इतनी मुश्किलों के बावजूद वो मिजोरम भाषा में शिक्षत हुए. फिलहाल वो एक चर्च में चौकीदार का काम कर रहे हैं.

अंग्रेजी टीवी चैनल देखने के लिए फिर ज्‍वाइन किया स्‍कूल
आठवीं कक्षा पास करने के बाद इसी साल अप्रैल में उन्‍होंने ह्रुआइकोन में स्थित राष्‍ट्रीय माध्‍यमिक शिक्षा अभियान हाई स्‍कूल में नौवीं कक्षा में दाखिला लिया, जहां उन्‍हें किताबें और यूनिफॉर्म दी गई. लालरिंगथारा का कहना है कि उनका इस उम्र में हाई स्‍कूल जाने का अब एक ही मकसद है. वो अंग्रेजी भाषा सीखना चाहते हैं. उनकी इच्‍छा अंग्रेजी में आवेदन पत्र लिखने की है. साथ ही वो अंग्रेजी भाषा में टीवी पर न्‍यूज का टेलीकास्‍ट देखना चाहते हैं.

Tags: India news, India news in hindi, Manipur News, Manipur violence

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!