Saturday, May 18, 2024
Homeमहाराष्ट्ररील बनाने के लिए खरीदना चाहती थी iPhone, मां ने 8 माह...

रील बनाने के लिए खरीदना चाहती थी iPhone, मां ने 8 माह का बच्चा 2 लाख में बेचा, जानें मामला

कोलकाता. पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां एक मां पर रील बनाने का ऐसा नशा छाया कि उसने अपने बच्चे को ही बेच दिया. वह आईफोन 14 iPhone 14 की दीवानी हो गई थी और उसे खरीदकर रील्स बनाने के शौक को पूरा करने के लिए उसने 8 माह के बच्चे को बेच दिया. पुलिस को जैसे ही इस मामले की जानकारी हुई तो वह एक्टिव हो गई. पुलिस ने बच्चे की मां और बच्चे को खरीदने वाली महिला समेत 4 लोगों को पकड़ लिया है. उसका पिता फरार हो गया है. बताया गया है कि रील बनाने के लिए वह ट्रैवल कर रहे थे, तभी लोगों को उन पर बच्चा बेचने का शक हो गया.

यह अजीबोगरीब घटना पश्चिम बंगाल की है. यहां एक कपल ने कथित तौर पर इंस्टाग्राम रील्स बनाने के लिए आईफोन 14 खरीदने के लिए अपने 8 महीने के बच्चे को बेच दिया. उत्तर 24 परगना के पानीहाटी के गांधीनगर इलाके में रहने वाले जयदेव घोष और उसकी पत्नी साथी घोष पर आरोप है कि उन्होंने iphone लेने के लिए अपने 8 महीने के बच्चे को बेच दिया. बताया जा रहा है कि साथी और जयदेव की एक 7 साल की बेटी है और एक 8 महीने का बच्चा था. गत शनिवार से पड़ोसियों ने देखा कि घोष दम्पति की बेटा गायब है और उनके पास एक नया iphone आ गया है. जिससे दोनों दम्पति रील बना रहे थे. बाद में पड़ोसियों के बार बार पूछने पर दंपति ने बताया कि उन्होंने iphone के लिए अपने बेटे को बेच दिया है.

पड़ोसियों ने मामला की जानकारी पुलिस को दी जिसके बाद पुलिस ने आरोपी मां साथी को गिरफ़्तार किया है. साथ ही बच्चे को खरीदने वाली प्रियंका नामक महिला को भी गिरफ़्तार किया है. आरोप है कि बच्चे को 2 लाख रुपये में बेचा गया गया. बच्चे को बेचने के आरोप में पुलिस ने मां सहित 4 लोगों को गिरफ़्तार किया है.

बताया गया है कि बच्चा होने के पहले महिला ने अबॉर्शन की भी कोशिश की थी. इस बारे में जानकारी मिलने पर पेशे से आया और पड़ोसी शांति मंडल और बिचौलिया तापस मंडल ने दंपति का झूमा मांझी नामक महिला से परिचय करवाया. जिसने अपनी जमीन बेचकर शुक्ला दास के 11 दिन के बच्चे को दो लाख रुपये में ख़रीदा. इस मामले के बाद झूमा के पड़ोसी उत्तम हाल्दर ने नरेन्द्रपुर थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई. जिसकी जांच करने के बाद पुलिस ने शुक्ला दास, मंडल दम्पति और झूमा माझी को गिरफ़्तार किया है.

इस मामले में आरोपी बिचौलिया ने बताया कि बच्चे की मां ने मुझसे कहा कि मैं बच्चे को बड़ा नहीं कर पाउंगी. बच्चे का पिता कौन है वो जानती ही नहीं. इसीलिए मैंने झूमा दीदी से कहा कि वह बच्चे को लेकर बड़ा करें. झूमा मांझी ने बताया कि बच्चे की मां ने मुझसे कहा मुझे अयुविधा है. तबीयत ख़राब है. मैंने उसे कुछ पैसे दिये. मुझसे कहा बच्चे को देखिये, उसने लोन लिया था उसे चुकाने के लिए मैंने दो लाख दिये. मैंने अपनी ज़मीन बेचकर उसे पैसे दिए हैं.

मां ने कहा, मैं तो अबॉर्शन करवाना चाहती थी..
वहीं बच्चे की मां शुक्ला दास ने कहा, ‘मैं उस दीदी के पास गई थी कि बच्चे का पालन पोषण करिये. मैंने बेचा नहीं है. मेरे पति नहीं हैं वह मर गए हैं. मेरी तबियत खराब है इसलिए मैं एक साल से काम नहीं कर पा रही थी. मैं तो अबॉर्शन कराना चाहती थी.’ वहीं आया का काम करने वाली शांति मंडल ने इस मामले में कहा कि मैंने दीदी से सिर्फ बच्चे को संभालने को लेकर बात की थी.

Tags: Iphone, West bengal news

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!