Saturday, May 18, 2024
Homeमहाराष्ट्रब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग के हमलावरों की धरपकड़ तेज, NIA ने पंजाब-हरियाणा...

ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग के हमलावरों की धरपकड़ तेज, NIA ने पंजाब-हरियाणा में 31 जगह मारी रेड

नई दिल्ली. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) लंदन में भारतीय उच्चायोग पर 19 मार्च को हुए हमले के दोषियों की पहचान करने और भारत तथा विदेश में स्थित अपराधियों, उनके सहयोगियों और उनके समर्थकों को गिरफ्तार करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है. इसी सिलसिले में एनआईए ने मंगलवार को पंजाब और हरियाणा में 31 स्थानों पर छापेमारी की. इन छापों का मकसद उस हमले के पीछे की साजिश की पूरी रूपरेखा का पता लगाना और विभिन्न हमलावरों को पकड़ना था.

यह सुनिश्चित करने के उद्देश्य से घटना की व्यापक जांच की जा रही है कि सुरक्षा के ऐसे उल्लंघन, भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का अनादर या विदेश में भारतीय हितों के लिए कोई खतरा दोबारा न हो. एनआई की रेड में डिजिटल डेटा जब्त किया गया, जिसमें उच्चायोग पर हमले में शामिल आरोपियों से संबंधित जानकारी और अन्य आपत्तिजनक दस्तावेज और सबूत शामिल थे.

पंजाब और हरियाणा के इन जगहों पर छापेमारी
एनआईए की ओर से जारी बयान में बताया गया कि मंगलवार को जिन जिलों में तलाशी ली गई, उनमें पंजाब स्थित मोगा, बरनाला, कपूरथला, जालंधर, होशियारपुर, तरनतारन, लुधियाना, गुरदासपुर, एसबीएस नगर, अमृतसर, मुक्तसर, संगरूर, पटियाला और  मोहाली के अलावा हरियाणा का सिरसा शामिल है.

बता दें कि लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग पर 19 मार्च को लगभग 50 लोगों के एक समूह ने हमला किया था. इन हमलावरों ने भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का अनादर किया था और सार्वजनिक संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया था. इस हमले में भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को भी चोटें आई थीं.

ये भी पढ़ें- ISI से जुड़े लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर विरोध-प्रदर्शन के तार

इस हमले की जांच के लिए एनआईए की टीम ने मई 2023 में यूके का दौरा किया था. इसके बाद, घटना में शामिल यूके स्थित संस्थाओं और व्यक्तियों की पहचान करने और उनके बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए सूचना की एक क्राउडसोर्सिंग भी की गई, जिसके आधार पर एजेंसी ने कई हमलावरों की पहचान की.

भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन का आयोजन गुरचरण सिंह, दल खालसा, यूके द्वारा किया गया था. इस मामले में जारी एनआईए की जांच में केएलएफ के अवतार सिंह खांडा, जसवीर सिंह और उनके कई भारतीय तथा विदेशी सहयोगियों की पहचान की गई.

Tags: Khalistani, NIA

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!