Sunday, July 14, 2024
Homeमहाराष्ट्रनूंह हिंसा: गृह मंत्री अमित शाह ने की सीएम खट्टर से बात,...

नूंह हिंसा: गृह मंत्री अमित शाह ने की सीएम खट्टर से बात, गुरुग्राम में फिर आगजनी और तोड़फोड़

नई दिल्ली. हरियाणा के नूंह में सोमवार को विश्व हिन्दू परिषद की शोभा यात्रा के दौरान भड़की सांप्रदायिक हिंसा की आंच मंगलवार को गुरुग्राम तक फैल गई. गुरुग्राम में सोमवार शाम से रुक-रुककर हिंसा का दौर जारी है. मंगलवार देर रात उपद्रवियों ने यहां गुरुग्राम के सेक्टर-70 में स्थित कुछ दुकानों में तोड़फोड़ की और फिर आग लगा दी.

इस बीच सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस हालिया हिंसा के संबंध में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से बात की और ताजा हाल जाना.

हिंसा में 5 लोगों की मौत
गुरुग्राम में बीती रात भी एक मस्जिद के इमाम की हत्या कर दी गई थी. इसके अलावा एक रेस्त्रां को आग लगा दी गई और कुछ दुकानों में तोड़फोड़ की गई. इससे एक दिन पहले नूंह में हुए हमले के बाद दो और लोगों ने दम तोड़ दिया, जिसके साथ ही मरने वालों की संख्या बढ़कर पांच हो गई.

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि नूंह के मोड में 10 पुलिसकर्मियों सहित 50 से अधिक लोग घायल हो हुए हैं. अधिकारियों ने मंगलवार सुबह नूंह जिले में कर्फ्यू लगा दिया. वहीं सुरक्षा बलों ने आसपास के जिलों में भी फ्लैग मार्च किया और कई शांति समिति की बैठकें आयोजित की गईं.

ये भी पढ़ें- क्यों नूंह है हरियाणा का सबसे संवेदनशील जिला, जानिए इस जगह के बारे में सबकुछ

नूंह के खेड़ला मोड़ पर भीड़ द्वारा विश्व हिंदू परिषद के जुलूस को निशाना बनाने, गोलीबारी करने, पथराव करने और कारों में आग लगाने के कुछ घंटों बाद, दंगाइयों ने गुरुग्राम के सोहना शहर में वाहनों और दुकानों को जला दिया. सोमवार रात 9 बजे तक पुलिस ने सोहना की भीड़ को तितर-बितर कर दिया, जिसके चलते वहां कोई हताहत नहीं हुआ.

आधी रात के बाद मस्जिद पर हमला
इस बाद आधी रात के बाद दूसरे समूह ने निर्माणाधीन अंजुमन मस्जिद में आग लगा दी. भीड़ द्वारा की गई गोलीबारी में 26 वर्षीय नायब इमाम साद और एक अन्य व्यक्ति घायल हो गया. एक अधिकारी ने बताया कि बिहार के रहने वाले इमाम की अस्पताल में मौत हो गई.

मस्जिद पर हमले के सिलसिले में पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है. वहीं मंगलवार दोपहर जय श्री राम के नारे लगाती भीड़ ने गुरुग्राम के बादशाहपुर में सड़क किनारे एक भोजनालय में आग लगा दी. पुलिस ने बताया कि आसपास के बाजार में कुछ दुकानों में भी तोड़फोड़ की गई. दमकल विभाग ने आग पर काबू पाया.

अधिकारियों ने कहा कि जब पुलिस घटनास्थल पर पहुंची, तो दंगाई- जिनकी संख्या लगभग 70 बताई जा रही है – अपनी मोटरसाइकिलों और अन्य वाहनों पर सवार होकर फरार हो गए.

ये भी पढ़ें- नूंह हिंसा में मोनू मानेसर को लेकर पुलिस का बड़ा खुलासा, अब तक 16 लोगों पर FIR

नूंह हिंसा के विरोध में व्यापारियों ने 20 किलोमीटर लंबे बादशाहपुर-सोहना मार्ग पर दुकानें बंद कर दीं. इस हिंसा के कारण राष्ट्रीय राजधानी से सटे गुरुग्राम के कई हाउसिंग कॉम्प्लेक्स में लोग परेशान रहे.

ऐसी अपुष्ट रिपोर्टें भी आईं कि जिले के कुछ हिस्सों में मुस्लिम निवासी अपने घर छोड़ रहे हैं, लेकिन प्रशासन ने इससे इनकार किया है और लोगों से अफवाह न फैलाने की अपील की है. गुरुग्राम के अधिकारियों ने यह भी घोषणा की कि सोहना को छोड़कर, मंगलवार को बंद किए गए स्कूल और शैक्षणिक संस्थान बुधवार को फिर से खुलेंगे. प्रशासन के मुताबिक, सोमवार को सोहना हिंसा में पांच वाहन और तीन दुकानें क्षतिग्रस्त हो गईं.

सीएम खट्टर ने नूंह हिंसा को बताया बड़ी साजिश का हिस्सा
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर समीक्षा बैठक करते हुए कहा कि नूंह हिंसा एक “बड़ी साजिश” का हिस्सा प्रतीत होती है. उन्होंने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी. उन्होंने कहा, ‘किसी भी दंगाई को बख्शा नहीं जाएगा.’

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने भी दावा किया कि हिंसा ‘नियोजित’ थी. उन्होंने कहा, ‘किसी ने इसकी साजिश रची है लेकिन मैं किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा हूं. हम इसकी जांच करेंगे और हर जिम्मेदार व्यक्ति को न्याय के कठघरे में लाया जाएगा.’

उधर दिल्ली में, वीएचपी के संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन ने दावा किया कि नूंह में एक धार्मिक जुलूस के दौरान हिंदुओं के खिलाफ ‘पूर्व नियोजित तरीके से’ हमला किया गया था और हरियाणा कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हमलावरों को उकसाया था. उन्होंने राज्य सरकार पर खुफिया विफलता का भी आरोप लगाया और एनआईए से जांच कराने की भी मांग की.

मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा कि अर्धसैनिक बल की 16 और हरियाणा पुलिस की 30 कंपनियां नूंह में तैनात हैं. 44 प्राथमिकी दर्ज की गईं हैं और 70 लोगों को हिरासत में लिया गया है. जिले में हिंसा के दौरान कम से कम 120 वाहन क्षतिग्रस्त हो गए.

एक अधिकारी ने बताया कि नूंह हिंसा और गुरुग्राम में मस्जिद पर हमले के बाद मंदिरों और मस्जिदों में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. सोमवार को नूंह और फरीदाबाद में बुधवार तक मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गईं. आसपास के जिलों में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई. एहतियात के तौर पर गुरुग्राम, फरीदाबाद और पलवल जिलों में शैक्षणिक संस्थानों को मंगलवार को बंद रखने का आदेश दिया गया है. (भाषा इनपुट के साथ)

Tags: Communal Riot, Haryana news, Mewat news, Nuh News

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!