Thursday, February 29, 2024
Homeमहाराष्ट्रदिल्ली पुलिस ने रुकवाई नूंह हिंसा पर महापंचायत, कौन हैं यति नरसिंहानंद,...

दिल्ली पुलिस ने रुकवाई नूंह हिंसा पर महापंचायत, कौन हैं यति नरसिंहानंद, जिन्होंने जंतर-मंतर पर दिया भड़काऊ भाषण?

नई दिल्‍ली. हरियाणा के नूंह में हाल में हुई हिंसा को लेकर रविवार को जंतर-मंतर पर हिंदू संगठनों द्वारा एक महापंचायत का आयोजन किया गया. इस दौरान कुछ वक्ताओं द्वारा कथित तौर पर ‘भड़काऊ भाषण’ दिए जाने के बाद पुलिस ने कार्यक्रम को बीच में ही रोक दिया. पुलिस के एक अधिकारी ने आयोजकों को बताया कि उन्हें किसी विशेष धर्म पर टिप्पणी नहीं करने को कहा गया था, इसके बावजूद वे ऐसा कर रहे हैं. पुलिस ने इसके बाद बैठक को समाप्त करने का निर्देश दिया.

अखिल भारतीय सनातन फाउंडेशन और अन्य संगठनों द्वारा आयोजित ‘महापंचायत’ को संबोधित करते हुए यति नरसिंहानंद ने कहा, ‘‘अगर इसी तरह हिंदुओं की आबादी घटती रही और मुसलमानों की बढ़ती रही तो हजारों साल का इतिहास खुद को दोहराएगा. फिर पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिन्‍दुओं के साथ जो हुआ, उसे यहां भी दोहराया जाएगा.’’

यह भी पढ़ें:- हिमाचल-उत्‍तराखंड सहित 7 राज्‍यों में होगी भारी बारिश, IMD का अलर्ट, दिल्‍ली वालों को भी मिल सकती है गर्मी से राहत

यति नरसिंहानंद पर पहले भी भड़काऊ टिप्पणी करने का मामला दर्ज किया जा चुका है. पुलिस ने बीच में ही यति नरसिंहानंद के भाषण पर आपत्ति जताई. नरसिंहानंद के बाद मंच संभालने वाले हिन्‍दुओं सेना के विष्णु गुप्ता ने आरोप लगाया कि नूंह और मेवात ‘जिहादियों और आतंकवादियों के किले’ में तब्दील हो गए हैं. इन जगहों पर सेना और सीआरपीएफ का शिविर स्थापित करने की मांग की गई.

कौन हैं यति नरसिंहानंद?
नरसिंहानंद गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर में पुजारी हैं. नरसिंहानंद के लिए ऐसे विवाद कोई नए नहीं हैं. उनपर पहले भी भड़काऊ भाषण देने के आरोप लग चुके हैं. इस संबंध पर उनपर मुकदमे भी दर्ज हैं. हरिद्वार हेट स्पीच मामले में नरसिंहानंद फिलहाल जमानत पर हैं. वो महिलाओं के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने और पत्रकारों को गाली देने के लिए जेल जा चुके हैं. उनपर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 509 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था.

Tags: Communal Riot, Communal Tension, Delhi police, Jantar Mantar

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!