Friday, July 19, 2024
Homeमहाराष्ट्र'चंदा मामा अब दूर के नहीं, बस...' पीएम मोदी ने चंद्रयान-3 की...

‘चंदा मामा अब दूर के नहीं, बस…’ पीएम मोदी ने चंद्रयान-3 की सफलता पर दी बधाई

नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि ‘यह दिन इस बात का उदाहरण है कि हार से सबक कैसे लिया जाए और सफलता कैसे हासिल की जाए.’ उन्‍होंने यह बात दक्षिण अफ्रीका से उस समय कही, जब भारत अपने चंद्रयान के साथ चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर उतरने वाला पहला देश बनकर इतिहास रच रहा था. ये शब्द चंद्रयान-3 मिशन की सावधानीपूर्वक सफलता पर प्रधानमंत्री की भावनाओं को उजागर करते हैं. करीब चार साल पहले जब चंद्रयान-2 के चंद्रमा पर दुर्घटनाग्रस्‍त होने के बाद जब तत्‍कालीन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) चीफ के सिवन निराशा में रो पड़े थे; तब पीएम मोदी ने उन्‍हें अपने कंधे लगाकर दिलासा दी थी. तब पीएम मोदी ने इसरो के प्रयास की भी खुले दिल से सराहना की थी और उन्हें गलतियों से सीखने और सफल होने तक जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया था.

बुधवार को चंद्रयान-3 की सफलता के तुरंत बाद पीएम मोदी ने दक्षिण अफ्रीका से इसरो प्रमुख एस सोमनाथ को फोन कर बधाई दी. पीएम मोदी ने उनसे कहा ‘आपका नाम सोमनाथ है और यह शब्द चंद्रमा से जुड़ा है! मैं जल्द ही आपको और आपके सहयोगियों को व्यक्तिगत रूप से बधाई दूंगा. उन्होंने कहा कि यह सफलता पूरी मानवता की है और इससे अन्य देशों को चंद्र अभियानों में मदद मिलेगी. लैंडिंग के तुरंत बाद इसरो वैज्ञानिकों को पीएम मोदी के संबोधित किया. उन्‍होंने इस मिशन में बीते चार सालों की अथक मेहनत की सराहना की.

भारत बार-बार साबित कर रहा कि आकाश उसकी सीमा नहीं
पीएम मोदी ने कहा कि ‘यह कई वर्षों के प्रयास का परिणाम है. चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव तक कोई भी देश नहीं पहुंच सका है. भारत बार-बार साबित कर रहा है कि आकाश उसकी सीमा नहीं है. हमने इतिहास बनते देखा है और यही हमारे जीवन को सार्थक बनाता है. यह एक विकसित और ‘न्यू इंडिया’ की शुरुआत है. यह क्षण कठिनाइयों के सागर को पार करने के समान है. इससे देश में नई ऊर्जा आएगी.’ इसरो वैज्ञानिकों के इस बयान का हवाला देते हुए कि भारत अब चंद्रमा पर है, पीएम मोदी ने कहा कि हालांकि वे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के लिए दक्षिण अफ्रीका में हैं, लेकिन हर भारतीय की तरह उनका मन चंद्रयान -3 मिशन पर था. पीएम मोदी ने कहा, ”हर भारतीय इस पल का आनंद ले रहा है, यह एक त्योहार की तरह है.”

ये भी पढ़ें-  Chandrayaan-3: विक्रम लैंडर ने भेजी चांद के सबसे करीब की तस्वीर, ऐसा दिखता है साउथ पोल

भविष्य के नए महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित
महत्वपूर्ण बात यह है कि पीएम मोदी ने कहा कि इसरो यहां नहीं रुक सकता और शुक्र और सूर्य जैसी आगे की सीमाओं के लिए तैयारी कर रहा है. भविष्य के लिए, हमने नए महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किए हैं. सूर्य के विस्तृत अध्ययन के लिए इसरो जल्द ही आदित्य एल1 मिशन लॉन्च करने जा रहा है. इसके बाद शुक्र ग्रह भी इसरो के निशाने पर है. गगनयान हमारा पहला मानव अंतरिक्ष मिशन होगा- हम इसके लिए पूरी तैयारी कर रहे हैं.’

उपलब्धियों पर भारत आराम नहीं करेगा
पीएम मोदी ने संदेश में कहा कि भारत अपनी उपलब्धियों पर आराम नहीं करेगा. उन्होंने इस अवसर का उपयोग यह उल्लेख करने के लिए किया कि कैसे यह सफलता ‘भारत के अमृतकाल में अमृतवर्षा’ की तरह थी और जी20 शिखर सम्मेलन जैसी भारत में अन्य सफलताओं का उल्लेख किया. पीएम मोदी ने कहा, ”वैश्विक दक्षिण के देश भी ऐसी उपलब्धियां हासिल कर सकते हैं.” उन्होंने कहा कि पुरानी कहावत ‘चंदा मामा बहुत दूर के’ अब बदलकर ‘चंदा मामा बस एक टूर के हैं’ हो जाएगी. इन शब्दों के साथ, 2019 की निराशा अब इतिहास बन गई है और पीएम मोदी के हर्षित शब्द न केवल उनकी बल्कि पूरे देश की खुशी को दर्शाते हैं.

Tags: Chandrayaan-3, ISRO, Pm narendra modi

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!