Thursday, June 13, 2024
Homeमहाराष्ट्रराहुल गांधी का 12 तुगलक लेन वाले बंगले से उठ गया मन!...

राहुल गांधी का 12 तुगलक लेन वाले बंगले से उठ गया मन! तलाश रहे नया आशियाना

नई दिल्ली. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं वायनाड से सांसद राहुल गांधी दोबारा 12 तुगलक लेन वाले बंगले के अलावा किसी और बंगले में रहने का भी विकल्प खुला रखना चाहते हैं. सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि कांग्रेस सांसद ने फिलहाल 12 तुगलक लेन वाले बंगले के लिए हामी नहीं भरी है.

राहुल गांधी ने इस साल की शुरुआत में संसद सदस्यता से अयोग्य ठहराए जाने के बाद 12 तुगलक लेन वाला अपना आधिकारिक आवास खाली कर दिया था. इसके बाद वह अपनी मां और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के घर 10 जनपथ में शिफ्ट हो गए थे. हालांकि सुप्रीम कोर्ट द्वारा 4 अगस्त को उनकी सजा पर रोक लगाने के बाद उन्हें वही आवास दोबारा से आवंटित कर दिया गया था.

इस वजह से नया बंगला तलाश रहे राहुल गांधी
वहीं सूत्रों ने बताया कि 12 तुगलक लेन में राहुल गांधी का घर और दफ्तर दोनों था, लेकिन वहां उस लिहाज से बना  टेम्पररी निर्माण टूट चुका है. ऐसे में राहुल एक ऐसा नया बंगला तलाश रहे हैं, जिसमें रहने के साथ-साथ दफ्तर संचालित करने के लिए पर्याप्त जगह हो.

लोकसभा की हाउसिंग कमेटी ने राहुल गांधी से 8 दिन के अंदर जवाब देने को कहा था कि उन्हें 12 तुगलक लेन वाला घर चाहिए या नहीं. कमेटी ने उन्हें 7, सफदरजंग लेन स्थित बंगले का भी विकल्प दिया है. खबर है कि राहुल ने अपनी बहन और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ उस बंगले का मुआयना भी कर लिया है.

राहुल इसके अलावा अकबर रोड और मोतीलाल नेहरू मार्ग सहित कुछ अन्य जगहों पर भी मुफीद बंगला तलाश रहे हैं. टीम राहुल से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि वह बेहतर विकल्प मिलने पर उसमें जाना चाहेंगे और कोई बेहतर विकल्प नहीं मिला तो वह फिर उस स्थिति में 12 तुगलक लेन वाला बंगला चुन लेंगे.

बता दें कि 7 सफदरजंग लेन वाला यह बंगला महाराजा रणजीत सिंह गायकवाड़ के कानूनी उत्तराधिकारियों को आवंटित किया गया था. यह घर उन्हें संसद सदस्य के रूप में वर्ष 1980 में आवंटित किया गया था. महाराजा 27 नवंबर 1989 तक सांसद रहे और 27 दिसंबर 1989 को आवंटन रद्द कर दिया गया.

Tags: Congress, Delhi news, Rahul gandhi

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!