Thursday, June 13, 2024
Homeमहाराष्ट्रअमेर‍िका भागने की फ‍िराक में था गैंगस्‍टर सच‍िन ब‍िश्‍नोई, फेक पासपोर्ट ने...

अमेर‍िका भागने की फ‍िराक में था गैंगस्‍टर सच‍िन ब‍िश्‍नोई, फेक पासपोर्ट ने बिगाड़ा प्लान… ऐसे ग‍िरफ्त में आया मूसेवाला हत्‍याकांड का मास्‍टरमाइंड

हाइलाइट्स

अमेरिका जाकर लॉरेंस के चचेरे भाई और मूसेवाला के हत्यारोपी अनमोल बिश्नोई से जुड़ने की थी योजना
सच‍िन को अजरबैजान से प्रत्‍यर्प‍ित कर लाने का दिल्ली पुलिस का दूसरा मामला
गत अप्रैल माह में भी पुल‍िस मोस्ट वांटेड गैंगस्टर दीपक बॉक्सर को मेक्सिको से गिरफ्तार कर दिल्ली लाई

नई दिल्ली: पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड (Siddu Moosewala Murder) का मास्‍टरमाइंड और गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के भतीजे सचिन बिश्नोई को द‍िल्‍ली पुल‍िस मंगलवार को अजरबैजान (Azerbaijan) से प्रत्यर्पित कर भारत ले आई है. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को जांच में पता चला था कि सचिन बिश्नोई, लारेंस के भाई अनमोल बिश्नोई के साथ हत्याकांड के करीब एक महीने पहले ही विदेश भाग गया था और दोनों के ही पासपोर्ट फर्जी थे.

फर्जी पासपोर्ट होने के बावजूद दोनों विदेश भागने में कामयाब हो गए थे. लेक‍िन पुल‍िस ने इस बात का भी खुलासा क‍िया है क‍ि सच‍िन ब‍िश्‍नोई के फर्जी पासपोर्ट जोक‍ि ‘तिलक राज टुटेजा’ नाम से बना था, उसकी एक फोटो कॉपी पिछले साल संगम विहार में मिली थी. इस फोटो कॉपी के जर‍िये पुल‍िस को पता चला था क‍ि गैंगस्टर सचिन बिश्नोई (Sachin Bishnoi) संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) भागने की फ‍िराक में था लेक‍िन द‍िल्‍ली पु‍ल‍िस ने उसकी इस योजना पर पानी फेर द‍िया था. मूसेवाला हत्‍याकांड के मुख्‍य साज‍िशकर्ताओं में से एक सचिन के अजरबैजान भाग जाने के बाद से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल, इंटरपोल और केंद्रीय जांच ब्यूरो ने करीब 13 माह तक का लंबा ऑपरेशन चलाया था. इसका पर‍िणाम मंगलवार को सचिन के भारत प्रत्यर्पण के रूप में सामने आया है.

इंड‍ियन एक्‍सप्रेस में प्रकाश‍ित र‍िपोर्ट के अनुसार पिछले साल मई माह में पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या कर दी गई थी. इस हत्‍याकांड के कथित मुख्य साजिशकर्ताओं में से सचिन उर्फ ​​थापन एक है. उसके खिलाफ 9 से अधिक आपराधिक मामले भी दर्ज हैं और वह गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई (Lawrence Bishnoi) का भतीजा होने का दावा करता है. पुलिस ने कहा कि यह वही था जिसने रेकी की थी और शूटरों से बात भी की थी. सच‍िन ने ही मूसेवाला की हत्या के लिए उनको बोलेरो और एसयूवी मुहैया कराई थी.

गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का भतीजा अजरबैजान में गिरफ्तार, मूसेवाला हत्याकांड में है साजिशकर्ता, दिल्ली पुलिस की टीम प्रत्यर्पण को रवाना

पुल‍िस ने इस बात का भी खुलासा किया है क‍ि मूसेवाला की हत्या से एक माह पहले ही सचिन ने देश छोड़ द‍िया था. वह कथित तौर पर नकली पासपोर्ट के सहारे व‍िदेश भाग गया था.

इस मामले में जांच एजेंसियों को सच‍िन तक पहुंचने का रास्‍ता या सुराग कैसे हाथ लगा, इसको लेकर सवाल क‍िये गए हैं. पुलिस सूत्र बताते हैं क‍ि एक टीम ने पिछले साल जून माह में गैंगस्टरों की मदद करने के आरोप में साउथ दिल्ली में एक शख्‍स को पकड़ा था. इस दौरान पुल‍िस टीम ने पासपोर्ट की एक प्रति भी जब्त की थी जिसमें सचिन की फोटो थी. इसके तुरंत बाद दुबई और अजरबैजान में अधिकारियों को सतर्क कर दिया गया था जहां वह भाग गया था.

पुलिस सूत्र बताते हैं क‍ि सच‍िन ब‍िश्‍नोई कनाडा में रहने वाले गैंगस्टर गोल्डी बराड़ के साथ लगातार संपर्क में था और अजरबैजान से ‘डंकी रूट’ का उपयोग करके अमेरिका जाने की योजना बना रहा था. हालांकि, बराड़ की एक कॉल ने उसे रोक दिया. पुलिस ने कहा कि बराड़ को पता चल गया था कि पुलिस सचिन पर पूरी नजर बनाए हुए है और उसने उसको बाकू में रहने के लिए कहा था. पिछले साल जून-जुलाई में अजरबैजान की स्थानीय पुलिस ने उसको हिरासत में लिया था.

द‍िल्‍ली पुल‍िस के स्पेशल सीपी (स्पेशल सेल) एचजीएस धालीवाल का कहना है क‍ि पिछले साल गृह मंत्री की समीक्षा बैठक के बाद से स्पेशल सेल भारत और विदेश में छिपे गैंगस्टरों और आतंकियों की धरपकड़ के ल‍िए काम कर रही है. द‍िल्‍ली पुलिस आयुक्त के निर्देशों के तहत, हम सचिन के प्रत्यर्पण के लिए एक साल से अधिक समय से काम कर रहे हैं. हमने पहले उक्त मामले में शामिल हमलावरों को गिरफ्तार करके अन्य एजेंसियों की मदद की थी. सचिन के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया गया था. कई एजेंसियों-सीबीआई-इंटरपोल, एमईए, एमएचए और अजरबैजान पुलिस की मदद से आखिरकार उसका प्रत्यर्पण करने में सफलता हास‍िल की जा सकी.

डीसीपी प्रशांत गौतम, एसीपी राहुल विक्रम, इंस्पेक्टर निशांत दहिया और एसआई मंजीत के नेतृत्व में एक टीम शुक्रवार को अजरबैजान के लिए रवाना हुई थी और सोमवार रात को बिश्नोई को हिरासत में ले लिया गया. अधिकारी के मुताब‍िक वह अमेरिका जाकर लॉरेंस के चचेरे भाई और गायक मूसेवाला की हत्या के आरोपी अनमोल बिश्नोई से जुड़ने की योजना बना रहा था, जो पिछले साल देश छोड़कर भाग गया था.

धालीवाल ने कहा कि सचिन ने हत्या की जिम्मेदारी ली है क्योंकि उसने एक टीवी चैनल को फोन किया था और उन्हें बताया था कि उसने उन गैंगस्टरों को बचाने के लिए मूसेवाला की हत्या कर दी, जिन्होंने उनके करीबी सहयोगी विक्की मिद्दुखेड़ा की हत्या कर दी थी. दिल्ली पुलिस द्वारा यह दूसरा प्रत्यर्पण है. इससे पहले अप्रैल माह में मोस्ट वांटेड गैंगस्टर दीपक बॉक्सर को मेक्सिको के कैनकन शहर से गिरफ्तार दिल्ली लाया गया था.

Tags: Delhi police, Delhi Police Special Cell, Punjab Police, Sidhu Moose Wala

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!