Monday, May 20, 2024
Homeमहाराष्ट्रतिरूपति देवस्थानम ने एक साल में 42 ट्रक घी की खेप रद्द...

तिरूपति देवस्थानम ने एक साल में 42 ट्रक घी की खेप रद्द कर दी, जांच में फेल हो गए थे सैंपल

तिरुपति. तिरूपति में श्री वेंकटेश्वर मंदिर के आधिकारिक संरक्षक, तिरुमाला तिरूपति देवस्थानम (Tirupati Devasthanam) ने अपने कड़े गुणवत्ता मानकों को पूरा करने में विफल रहने के कारण पिछले एक साल में गाय के घी की 42 ट्रक की खेप को रद्द कर दिया. अठारह टन तक घी की खेप ले जाने वाले प्रत्येक ट्रक की शुद्धता और गुणवत्ता के लिए मंदिर निकाय के स्वास्थ्य, सतर्कता, इंजीनियरिंग जैसी विभिन्न इकाइयों से बनी एक बहु-अनुशासनात्मक समिति द्वारा ऑडिट किया जाता है.

समिति में केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान (सीएफटीआरआई) के एक वरिष्ठ रसायनशास्त्री भी शामिल होते हैं. टीटीडी के महाप्रबंधक (खरीद) पी. मुरली कृष्ण ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘22 जुलाई, 2022 और 30 जून, 2023 के बीच, हमने मानकों पर खरा उतरने में विफल रहने के कारण 42 ट्रक घी की खेप रद्द की.’ कृष्णा ने कहा कि विपणन गोदाम से प्राप्त नमूनों का टीटीडी की जल और खाद्य विश्लेषण प्रयोगशाला में परीक्षण किया जाता है.

ये भी पढ़ें-   Tirupati Temple News: ध्यान दें! तिरुपति मंदिर में बदल गया दर्शन करने का तरीका, जानें 1 मार्च से भक्तों को क्या करना होगा: PHOTOS

खरा उतरने के बाद ही ट्रकों को अंदर जाने की अनुमति
उन्होंने बताया कि हर खेप से नमूने लिए जाते हैं और परीक्षण में खरा उतरने के बाद ही ट्रकों को अंदर जाने की अनुमति दी जाती है. उन्होंने कहा कि डेयरी विशेषज्ञ राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाओं में संभावित आपूर्तिकर्ताओं के संयंत्रों और नमूनों का ऑडिट करते हैं. नंदिनी ब्रांड के दूध उत्पादक कर्नाटक मिल्क फेडरेशन (केएमएफ) के अध्यक्ष भीमा नाइक ने आरोप लगाया कि टीटीडी कम गुणवत्ता वाला घी खरीद रहा है.

आरोपों को खारिज किया और कहा- केवल उनसे खरीदी होती है जो…
टीटीडी के कार्यकारी अधिकारी ए. वी. धर्मा रेड्डी ने नाइक के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि मंदिर निकाय केवल उन आपूर्तिकर्ताओं से गाय का घी खरीदता है जो ई-टेंडर प्रक्रिया के माध्यम से गुणवत्ता मानकों पर खरा उतरते हैं.

Tags: Tirupati, Tirupati news

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_imgspot_img

Recent News

Most Popular

error: कॉपी करणे हा कायद्याने गुन्हा आहे ... !!